शिलाजीत के फायदे ( Shilajit Benefits in Hindi )

शिलाजीत को अंग्रेजी में Mineral Pitch या Asphaltum कहते हैं। शिलाजीत की उत्पत्ति बड़े और उचे पहाड़ो और चट्टानों से होती हैं। गर्मियों में जब सूर्य की तेज गर्मी से पहाड़ो के धातु अंश पिघलने लगते हैं, जो की लावा या तारकोल की तरह काला और गाढ़ा होता हैं। यह सूखने के बाद चमकीला रूप ले लेता हैं इसे ही शिलाजीत कहा जाता हैं शिलाजीत में गौमूत्र जैसी गंध और काफी कड़वा होता हैं परन्तु आयुर्वेद में शिलाजीत को अमृत के समान माना हैं। शिलाजीत के सेवन से शारीरिक कमजोरी, बवासीर, मधुमेह, डायबिटीज, सूजन और यौन दुर्बलता जैसी बीमारिया दूर हो जाती हैं। शिलाजीत के नियमित उपयोग से व्यक्ति अपनी जवानी को लंबे समय तक कायम रख सकता हैं।

शिलाजीत हिमालय पर्वत के आस-पास ज्यादा मिलता हैं पर ध्यान रहे की शिलाजीत असली होना चाहिए और किसी डॉक्टर की सलाह पर सही तरीके से सेवन करना चाहिए। शिलाजीत चार प्रकार का होता हैं रजत शिलाजीत ( Silver Shilajit ), स्वर्ण शिलाजीत ( Gold Shilajit ), ताम्र शिलाजीत (Copper Shilajit ) और लौह शिलाजीत ( Iron Shilajit ). इन शिलाजीत के गुण और लाभ अलग-अलग हैं। आज हम आपको Shilajit Benefits और Shilajit ke fayde हिंदी में बताते हैं।

Shilajit Benefits

शिलाजीत के फायदे ( Shilajit Benefits ) :

  1. शिलाजीत रक्त में शर्करा के स्तर को कण्ट्रोल करता हैं और शरीर से हानिकारक पदार्थो को बहार निकालता हैं। शिलाजीत के सेवन से Diabetes नियंत्रण में रहती हैं।
  2. Shilajit ke uses से यौन दुर्बलता, स्वपनदोष और नपुंसकता को दूर करता हैं और यौन शक्ति बढ़ती हैं। यह पुरुषो में सेक्स हार्मोन को बढ़ाता हैं शिलाजीत के सेवन से शुक्राणुवों की संख्या बढ़ती हैं।
  3. शिलाजीत के सेवन से स्मरण शक्ति बढ़ती हैं। Shilajit के सेवन से मानसिक थकावट, चिन्ता और तनाव दूर होता हैं।
  4. शिलाजीत दिल की सेहत के लिए अच्छा हैं साथ ही यह रक्त चाप को भी कण्ट्रोल में रखता हैं। यह शरीर में नयी कोशिकाओं को बना कर पुरानी कोशिकाओं को सही करता हैं। शिलाजीत के सेवन से बुढ़ापा दूर रहता है।
  5. Shilajit के सेवन से पाचन तंत्र सही बना रहता हैं। शिलाजीत के सेवन से अपच, पेट दर्द, गैस या कब्ज जैसी बीमारिया दूर रहती हैं जब पेट सही रहेगा तो शरीर भी स्वस्थ्य रहता हैं।
  6. शिलाजीत शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करता है। इसमें लगभग 85 फीसदी मिनरल्स पाए जाते हैं जो शरीर को स्वस्थ्य रखते हैं। शिलाजीत में प्रोटीन और विटामिन भी पाए जाते हैं शिलाजीत के सेवन से शरीर को ऊर्जा मिलती हैं।
  7. शिलाजीत के सेवन से इसमें मौजूद कैल्शियम हड्डियों को मजबूत करता हैं। इससे गठिया या जोड़ो के दर्द में राहत मिलती हैं साथ ही शरीर की सूजन कम होती हैं। शिलाजीत के सेवन से कफ, पित्त, वात विकार दूर होते हैं।
  8. शिलाजीत के सेवन से पैनक्रियाज या किडनी की समस्या सही होती हैं। शिलाजीत के सेवन से बार-बार पेशाब करने की समस्या से छुटकारा मिलता हैं। Shilajit ka upyog गर्भावस्था में नही करे शिलाजीत का उपयोग डॉक्टर की सलाह से ही करे।

शिलाजीत के नुकसान ( Shilajit ke Nuksan ) :

शिलाजीत की प्रकृति गर्म होती हैं इसलिए जिन लोगो में गर्मी पहले से ही ज्यादा हैं उनको शिलाजीत किसी अनुभवी की सलाह से ही उपयोग लेने चाहिए क्योंकि यह उन्हें नुकसान दे सकता हैं। शिलाजीत का सेवन करने वालो को खटाई, मिर्च, गर्म मसाले, शराब, मांस, अंडे से दूर रहना चाहिए। गर्भवती महिलावो को शिलाजीत का उपयोग नही करना चाहिए शिलाजीत के इस्तेमाल से किसी-किसी को एलर्जी भी हो सकती है। शिलाजीत का सेवन दूध और शहद के साथ सुबह सूर्योदय से पहले करना अच्छा रहता हैं इसके सेवन के बाद लगभग चार घंटे बाद ही भोजन करना चाहिए। शिलाजीत का सेवन कितना करना चाहिए इसकी सलाह अनुभवी डॉक्टर से ले। जिन लोगो के ज्यादा गठिया बाय हैं उनको Shilajit का सेवन नही करना चाहिए क्योंकि इससे खून में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने का खतरा हो जाता हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Ayurvedic Solution © 2016 Frontier Theme
Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.