शनि के उपाय ( Shani ke Upay ) Shani Sade Sati ke Upay in Hindi

Shani ke Upay aur Shani Sade Sati ke Upay in Hindi :

आज हम आपको Shani ke Upay और Shani Sade Sati ke Upay के बारे में बताते है-

शनि ग्रह के उपाय (Shani ke Upay) :

  • शनिवार को पीपल के वृक्ष के चारों और 7 बार कच्चा सूत लपेंटे और यह क्रिया करते समय शनि के किसी भी एक मंत्र का जप करते रहें। इसके बाद वृक्ष का धूप-दीप से पूजन करें। ध्यान रखें जब यह पूजा करें उस दिन बिना नमक का भोजन ही करें।
  • शनिदेव के प्रकोप को शांत कर उनको प्रसन्न करने के लिए आप शनि की पत्नी के नामों का नित्य पाठ करें तो शुभ रहेगा। मंत्र कुछ इस तरह है। ध्वजिनी धामिनी चैव कंकाली कलहप्रिहा।

          कंकटी कलही चाउथ तुरंगी महिषी अजा।। 

          शनैर्नामानि पत्नीनामेतानि संजपन् पुमान्।

          दुःखानि नाश्येन्नित्यं सौभाग्यमेधते सुखमं।।

  • यदि कुष्ठरोग वंशानुगत न होकर शनि के कोप के कारण हुआ है तो इससे मुक्ति पाने के लिए डॉक्टरी सलाह के साथ इस मंत्र का जाप करने से यह रोग दूर हो सकता है। ऊँ ऐं ह्रीं श्रीं शनैश्चरायः नमः
  • शनिग्रह के अशुभ प्रभाव के कारण शरीर पर चर्म रोग हो जाए शनिवार के दिन बिछुआ की जड़( एक प्रकार का जंगली पौधा) को बाजू में बांधने से आपकी आशा के अनुरूप लाभ होता है।
  • नीलम को शनि का रत्न माना जाता है। इसका प्रभाव क्योंकि तत्काल प्रारंभ हो जाता है। इसल इसे धारण करते समय सावधानी रखें।प्रत्येक शनिवार को वट और पीपल के वृक्ष के नीचे सूर्योदय से पहले कड़वे तेल का दीपक जलाकर कच्चा दूध अर्पित करें। शनिदेव जरूर प्रसन्न होंगे।

शनि के उपाय (Shani ke Upay) :

क्या? आपकी कुंडली में शनि ग्रह कमजोर है या आपके शनि की महादशा या दशा चल रही हैं तो कीजिये शनि के शांति के निम्न उपाय :

शनि के अशुभ प्रभाव में होने पर मकान या मकान का हिस्सा गिर जावे या क्षति होवे, अंगों के बाल झड़ जावे, काले संपत्ति का नाश होवे, आग लग जावे व धन संपत्ति का नाश हो

  • कौवे को प्रतिदिन रोटी खिलावे,
  • तेल में अपना मुख देख वह तेल दान करें.
  • लोहा, काला उडद, चमड़ा, काला सरसों आदि दान दें ।
  • भगवान शिव की आराधना करें ।
  • यदि कुण्डली में शनि लग्न में हो तो भिखारी को तांबे का सिक्का या बर्तन कभी न दें यदि देंगे तो पुत्र को कष्ट होगा ।
  • यदि शनि आयु भाव में स्थित हो तो धर्मशाला आदि न बनवायें ।

शनि ग्रह की शांति के उपाय (Shani grah ki shanti ke Upay) :

  • शमी वृक्ष की जड़ को विधि-विधान पूर्वक घर लेकर आएं। शनिवार के दिन श्रवण नक्षत्र में या किसी योग्य विद्वान से अभिमंत्रित करवा कर काले धागे में बांधकर गले या बाजू में धारण करें। शनिदेव प्रसन्न होंगे तथा शनि के कारण जितनी भी समस्याएं हैं, उनका निदान होगा।
  • शनिवार के दिन शनि यंत्र की स्थापना व पूजन करें। इसके बाद प्रतिदिन इस यंत्र की विधि-विधान पूर्वक पूजा करने से शनिदेव प्रसन्न होते हैं। प्रतिदिन यंत्र के सामने सरसों के तेल का दीप जलाएं। नीला या काला पुष्प चढ़ाएं ऐसा करने से लाभ होगा।
  • प्रत्येक शनिवार के दिन बंदरों और काले कुत्तों को बूंदी के लड्डू खिलाने से भी शनि का कुप्रभाव कम हो जाता है अथवा काले घोड़े की नाल या नाव में लगी कील से बना छल्ला धारण करें।
  • चोकर युक्त आटे की 2 रोटी लेकर एक पर तेल और दूसरी पर शुद्ध घी लगाएं। तेल वाली रोटी पर थोड़ा मिष्ठान रखकर काली गाय को खिला दें। इसके बाद दूसरी रोटी भी खिला दें और शनिदेव का स्मरण करें.
  • शनिवार के दिन भैरवजी की उपासना करें और शाम के समय काले तिल के तेल का दीपक लगाकर शनि दोष से मुक्ति के लिए प्रार्थना करें।
  • काले धागे में बिच्छू घास की जड़ को अभिमंत्रित करवा कर शनिवार के दिन श्रवण नक्षत्र में या शनि जयंती के शुभ मुहूर्त में धारण करने से भी शनि संबंधी सभी कार्यों में सफलता मिलती है।

Shani ke Upay aur Shani Sade Sati ke Upay

प्रथम भाव में शनि के निवारण के उपाय / टोटके (Pahle Bhav Me Shani Ke Upay or totke) :

  • अपने ललाट पर प्रतिदिन दूध अथवा दही का तिलक लगाए।
  • शनिवार केदिन न तो तेल लगाए और न ही तेल खाए।
  • तांबे के बने हुए चार साँप शनिवार के दिन नदी में प्रवाहित करे.
  • भगवान शनिदेव या हनुमान जी के मंदिर में जाकर यह प्रथना करे की प्रभु ! हमसे जो पाप हुए हैं, उनके लिए हमे क्षमा करो, हमारा कल्याण करो।
  • जब भी आपको समय मिले शनि दोष निवारण मंत्र का जाप करे।

दूसरे भाव में शनि के उपाय /टोटके (dusre Bhav Me Shani Ke Upay or totke) :

  • शराब का त्याग करे और मांसाहार भी न करे।
  • साँपो को दूध पिलाए कभी भी साँपो को परेशान न करे , न ही मारे।
  • दो रंग वाली गाय / भैस कभी भी न पालें।
  • अपने ललाट पर दूध / दही का तिलक करे।
  • रोज शनिवार को कडवे तेल का दान करें.
  • शनिवार के दिन किसी तालाब, नदी में मछलियों को आटा डाले।
  • सोते समय दूध का सेवन न करें।
  • शनिवार के दिन सिर पर तेल न लगाएं।

तीसरे भाव में शनि के उपाय /टोटके (Tisre Bhav Me Shani Ke Upay or totke) :

  • आपके घर का मुख्य दरवाजा यदि दक्षिण दिशा की ओर हो तो उसे बंद करवा दे।
  • रोज शनि चालीसा पढ़ें तथा दूसरों को भी शनि चालीसा भेंट करें।
  • शराब का त्याग करे और मांसाहार भी न करे।
  • गले में शनि यंत्र धारण करें.
  • मकान के आखिर में एक अंधेरा कमरा बनवाएँ।
  • अपने घर पर एक काला कुत्ता पाले तथा उस का ध्यान रखें।
  • घर क अंदर कभी हैंडपम्प न लगवाएँ।

चतुर्थ भाव में शनि के उपाय / टोटके (Chothe Bhav Me Shani Ke Upay or totke) :

  • रात में दूध न पिये।
  • पराई स्त्री से अवैध संबंध कदापि न बनाएँ।
  • कौवों को दना खिलाएँ।
  • सर्प को दूध पिलाएँ।
  • काली भैस पालें।
  • कच्चा दूध शनिवार दिन कुएं में डालें।
  • एक बोतल शराब शनिवार के दिन बहती नदी में प्रवाहित करें।

पंचम भाव में शनि के उपाय / टोटके (Pancham House Me Shani Ke Upay or totke) :

  • पुत्र के जन्मदिन पर नमकीन वस्तुएं बांटनी चाहिए, मिठाई आदि नहीं।
  • माँस और शराब का सेवन न करें.
  • काला कुत्ता पालें और उसका पूरा ध्यान रखें।
  • शनि यंत्र धारण करें।
  • शनिदेव की पुजा करें।
  • शनिवार के दिन अपने भार के दसवें हिस्से के बराबर वजन करके, बादाम नदी में प्रवाहित करने का कार्य करें।

छठवे भाव में शनि के उपाय / टोटके (Chhathe Bhav Me Shani Ke Upay or totke) :

  • चमड़े के जूते , बैग , अटैची आदि का प्रयोग न करें।
  • शनिवार का व्रत करें.
  • चार नारियल बहते पानी में प्रवाहित करें। ध्यान रहे, गंदे नाले मे नहीं करें, परिणाम बिल्कुल उल्टा होगा।
  • हर शनिवार के दिन काली गाय को घी से चुपड़ी हुई रोटी नियमित रूप से खिलाएँ।
  • शनि यंत्र धारण करें।

सप्तम भाव में शनि के उपाय / टोटके (Saptam House Me Shani Ke Upay or totke) :

  • पराई स्त्री से अवैध संबंध कदापि न बनाएँ।
  • हर शनिवार के दिन काली गाय को घी से चुपड़ी हुई रोटी नियमितरूप से खिलाएँ।
  • शनि यंत्र धारण करें।
  • मिट्टी के पात्र में शहद भरकर खेत में मिट्टी के नीचे दबाएँ। खेत की जगह बगीचे में भी दबा सकते हैं।
  • अपने हाथ में घोड़े की नाल का शनि छल्ला धारण करें।

अष्टम भाव में शनि के उपाय / टोटके ( Eighth Bhav Me Shani Ke Upay or totke) :

  • गले में चाँदी की चेन धारण करें.
  • शराब का त्याग करे और मांसाहार भी न करे।
  • शनिवार के दिन आठ किलो उड़द बहती नदी में प्रवाहित करें। उड़द काले कपड़े में बांध कर ले जाएँ और बंधन खोल कर ही प्रबहित करें।
  • सोमवार के दिन चावल का दान करना आपके लिए उत्तम हैं।
  • काला कुत्ता पालें और उसका पूरा ध्यान रखें।

नवम भाव में शनि के उपाय / टोटके (Ninth Bhav Me Shani Ke Upay or totke) :

  • पीले रंग का रुमाल सदैव अपने पास रखें।
  • साबुत मूंग मिट्टी के बर्तन में भरकर नदी में प्रवाहित करें.
  • साव 6 रत्ती का पुखराज गुरुवार को धारण करें।
  • कच्चा दूध शनिवार दिन कुएं में डालें।
  • हर शनिवार के दिन काली गाय को घी से चुपड़ी हुई रोटी नियमितरूप से खिलाएँ।
  • शनिवार के दिन किसी तालाब, नदी में मछलियों को आटा डाले।

दशम भावमें शनि के उपाय उपाय / टोटके (tenth Bhav Me Shani Ke Upay or totke) :

  • पीले रंग का रुमाल सदैव अपने पास रखें.
  • आप अपने कमरे के पर्दे , बिस्तर का कवर , दीवारों का रंग आदि पीला रंग की करवाए यह आप के लिए उत्तम रहेगा।
  • पीले लड्डू गुरुवार के दिन बाँटे।
  • आपने नाम से मकान न बनवाएँ।
  • अपने ललाट पर प्रतिदिन दूध अथवा दही का तिलक लगाए।
  • शनि यंत्र धारण करें।
  • जब भी आपको समय मिले शनि दोष निवारण मंत्र का जाप करे।

एकादश भाव में शनि के उपाय / टोटके (Eleventh Bhav Me Shani Ke Upay or totke) :

  • शराब और माँस से दूर रहें।
  • मित्र के वेश मे छुपे शत्रुओ से सावधान रहें।
  • सूर्योदय से पूर्व शराब और कड़वा तेल मुख्य दरवाजे के पास भूमि पर गिराएँ।
  • परस्त्री गमन न करें।
  • शनि यंत्र धारण करें.
  • कच्चा दूध शनिवार के दिन कुएं में डालें।
  • कौवों को दाना खिलाएँ।

द्वादश भाव में शनि के उपाय / टोटके (Twelfth House Me Shani Ke Upay or totke) :

  • जातक झूठ न बोले।
  • शराब और माँस से दूर रहें।
  • चार सूखे नारियल बहते पानी में प्रवाहित करें।
  • शनि यंत्र धारण करें।
  • शनिवार के दिन काले कुत्ते ओर गाय को रोटी खिलाएँ।
  • शनिवार को कडवे तेल , काले उड़द का दान करे।
  • सर्प को दूध पिलाएँ।

शनि के अशुभ होने के कारण ( shani ke upay aur karan ) :

शनि निम्न कारण से अशुभ फल देता हैं : –

  • ताऊ एवं चाचा से झगड़ा करने एवं किसी भी मेहनतम करने वाले व्यक्ति को कष्ट देने, अपशब्द कहने
  • शराब, माँस खाने पीने से शनि देव अशुभ फल देते हैं।
  • कुछ लोग मकान एवं दुकान किराये से लेने के बाद खाली नहीं करते अथवा उसके बदले पैसा माँगते हैं तो शनि अशुभ फल देने लगता है।

शनि की ढ़ैया या साढ़े साती के उपाय (Shani Sade Sati ke Upay) :

यदि कुण्ड़ली में शनि, राहू, केतु की अशुभ दृष्टि, इसकी अशुभ दशा , शनि की ढ़ैया या साढ़े साती (Shani Sade Sati) चल रही तो कीजिये यह छोटा सा उपाय –

  • एक सूखे मेवे वाला नारियल लेकर उस पर मुँह के आकार का एक कट करें. उसमें पाँच रुपये का मेवा और पाँच रुपये की चीनी का बुरादा भर कर ढ़क्कन को बन्द कर दें. पास ही किसी किसी पीपल के पेड़ के नीचे एक हाथ या सवा हाथ गढ्ढ़ा खोदकर उसमें नारियल को स्थापित कर दें. उसे मिट्टी से अच्छे से दबाकर घर चले जायें. ध्यान रखें कि पीछे मुड़कर नही देखना. सभी प्रकार के मानसिक तनाव से छुटकारा मिल जायेगा।

 

Updated: August 17, 2016 — 1:24 am

1 Comment

Add a Comment
  1. Sir ap or upar batai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Ayurvedic Solution © 2016 Ayurvedic Solution
Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.