मांगलिक दोष निवारण ( Mangal Dosha Nivaran ) Manglik dosha

Mangal Dosha Nivaran or Manglik dosha Remedies Jyotish Upay :

मांगलिक दोष से दांपत्य सुख होता है क्षीण, मांगलिक दोष निवारण (Mangal Dosha Nivaran – Manglik dosha):

मंगल की महादशा में अगर कारक ग्रह मंगल हो तो आपको शुभ और फलदायी फल प्राप्त होते हैं। देखा जाए तो जन्म कुंडली में जिनके चौथे, आठवें और बारहवें स्थान पर मंगल ग्रह विराजमान रहता है, वे वास्तव में मंगल से ज्‍यादा प्रभावित होते हैं। 
मंगल ग्रह का सबसे अधिक फल मंगल की महादशा में ही मिलता है और उस समय के लग्न की स्थिति के अनुसार जातक के विवाह में लाभ होता है। मंगल अगर कारक नहीं हैं तो जातक को बहुत सावधान होकर रहना चाहिए। अगर जातक की स्थिति में मांगलिक दोष आ जाए तो उसका विपरीत फल मिलता है।

क्या है मंगल दोष (Mangal Dosha or Manglik dosha kya hai) ?

यदि जातक के जन्म चक्र में मंगल ग्रह लग्न, चतुर्थ, सप्तम, अष्टम, या द्वादश भाव में स्थित होता है, उसे ज्योतिष शास्त्र में मंगल दोष माना गया है।
ऐसे में उसके भावी जीवन साथी के जन्म चक्र (जन्म कुंडली) में उसके अनुरूप ग्रह नहीं हों, और उसका विवाह उससे कर दिया जाए तो जातक (वर) की मृत्यु भी हो सकती है। मंगल दोष दरअसल दांपत्य सुख को क्षीण कर देता है।
ज्योतिष शास्त्र में मंगलदोष के निवारण के लिए जो कन्या या वर मांगलिक योग से प्रभावित हों उनका विवाह भी मंगलदोष वाल जातक (वर-वधू) के साथ ही करना चाहिए।

Mangal Dosha Nivaran - Manglik dosha Mangal Dosha Nivaran or Manglik dosha

मंगल दोष का निवारण (Mangal Dosha Nivaran – Manglik dosha Upay) :

मंगल दोष के निवारण के लिए आप किसी विद्वान से वैदिक अनुष्ठान कराएं। किसी कारण से ऐसा करने से असमर्थ हैं तो लाल मूंगा, ताम्र (तांबा), धातु, मसूर, लाल मसूर, गुड़ शुद्ध घी, रक्त चंदन, लाल कनेर का फूल, लाल केशर, लाल वस्त्र, सोना या लाल गेहूं का दान करें।
मूंगा रत्न धारण कर सकते हैं। मूंगा सात रत्ती का हो और उसे चांदी की अंगूठी में जड़वा कर मंगलवार के दिन धारण करें। जब मंगल की महादशा में मंगल का अंतर हो तो इष्टदेव का स्मरण करें। रामायण के सुंदर काण्ड का पाठ करें। रामचरितमानस का पाठ भी मंगल ग्रह का शमन करता है।

ध्यान रखें :

1. लाल रंग को देखें पर उस रंग के वस्त्र न पहनें।
2. क्रोध कम करें।
3. अधिक काम वासना से अलग रहें।
4. सकारात्मक सोच को और भी ज्यादा बेहतर बनाएं।
5. संयमित जीवन रखें।
6. मंगलवार को एक समय भोजन।
7. हनुमान चालीसा का पाठ करें।

मांगलिक योग का उपाय (Mangal Dosha Remedies – Manglik dosha Upay):

अगर किसी का विवाह कुण्डली के मांगलिक योग के कारण नहीं हो पा रहा है, तो ऎसे व्यक्ति को मंगल वार के दिन चण्डिका स्तोत्र का पाठ मंगलवार के दिन तथा शनिवार के दिन सुन्दर काण्ड का पाठ करना चाहिए. इससे भी विवाह के मार्ग की बाधाओं में कमी होती है.

मांगलिक दोष निवारण ( Mangal Dosha Nivaran Upay ) :

  • यदि जन्मकुंडली में मंगल दोष हो किन्तु शनि मंगल पर दृष्टिपात करे तो मंगल दोष का परिहार हो जाता है। मकर लग्न में मकर राशि का मंगल व सप्तम स्थान में कर्क राशि का चंद्र हो तो मंगल दोष नहीं रहता है।
  • कर्क व सिंह लग्न में भी लग्नस्थ मंगल केन्द्र व त्रिकोण का अधिपति होने से राजयोग देता है, जिससे मंगल दोष निरस्त होता है। लग्न में बुध व शुक्र हो तो मंगल दोष निरस्त होता है। मंगल अनिष्ट स्थान में है और उसका अधिपति केद्र व त्रिकोण में हो तो मंगल दोष समाप्त हो जाता है।
  • ऐसा कहा जाता है कि आयु के 28वें वर्ष के पश्चात मंगल दोष क्षीण हो जाता है। आचार्यों ने मंगल-राहु की युति को भी मंगल दोष का परिहार बताया है। यदि मंगल मेष, कर्क, वृश्चिक अथवा मकर राशि हो तो मंगल दोष का परिहार हो जाता है।
  • कुण्डली मिलान में यदि मंगल चतुर्थ, सप्तम, अष्टम, द्वादश भाव में हो व द्वितीय जन्मकुंडली में इन्हीं भावों में से किसी में शनि स्थित हो तो मंगल दोष निरस्त हो जाता है। चतुर्थ भाव का मंगल वृष या तुला का हो तो मंगल दोष का परिहार हो जाता है।
  • द्वादश भावस्थ मंगल कन्या, मिथुन, वृष व तुला का हो तो मंगल दोष निरस्त हो जाता है। वर की कुण्डली में मंगल दोष है व कन्या की जन्मकुण्डली में मंगल के स्थानों पर सूर्य, शनि या राहु हो तो मंगल दोष का स्वयमेव परिहार हो जाता है।

14 Comments

Add a Comment
  1. ku swati sunil jadhav

    Meri dob_30/10/1992 (2.16am) mere carriar k bare me jankari chahiye gov job hai ya nhi

    1. Sir meri dob 29/9/1989 ur birth time 10:20pm birth place Lucknow h mein manglik hu mujhe apna carrier kis field m banana chaiye mein 4 years s compition ki tayri kr rehi hu ..mujhe sehi rasta btay plz help me

  2. guru ji pranan,meri dob 19-10-1988 h.main manglik hun.main ek ladke se pyar krti hun jo mujse 3 yrs chota h uska name kishan h.kya hamari marriage ho skti h.

    1. Meri 2011 me saadhi hu ti or mera devoce hu gaya 2015 me me magli hu… 5.8.1986… muj ko ek ladki se payar ha uska dob 2.Oct. 1988 ha uska naam udit mehra ha kya me us se saadhi kar sakti hu plz help me

      1. Anita mam apki jisse pehle shadi hui thi kya wo b manglik the? Agr nhi the to apne dosh dir krk shadi ki thi ya ase hi.mam mera janna bahut jaruri h plz ans

  3. Vijay Prakash nigam

    Mangal
    Guru and rahu ashubh hai kya Kare birth date 12/10/69 time 8pm place katni m.p. kisi kam me safalta nahi multi koun sa kam karna uchit rahega

    1. Vijay Prakash nigam

      Job or advocate

  4. my son is manglik, can he marry with details as under :-

    rahul
    DOB 19 NOV 1989 AT 11.42PM INDORE

    MADHU
    DOB 27 SEPT 1992 AT 4.00 AM INDORE

  5. D.O.B– 16/01/1989
    I want to know about my marriage and job
    When i will get marry,.

  6. Me love marriage krna chahta hu pr meri wife manglik dosh h uske liye mje upay btaye ki manglik dosh kaise htega ya jo bhi upaye ho ….

    1. Pandit ji main manglik hu or jisse shadi krna chahta hu wo manglik nhi h. But kisi pandit jo ne unhe batya ki wo chandra mangli h jo bura nhi h sahi hota h. Plz koi upay btaeye kese dur ho or kya puri tarah se dur ho jaega ye dosh. Hmari life ka sawal h. My no is 9250349997

  7. Mri DOB -08/03/1990 hai
    kya mai double mangalik hu
    iska upay kya hai
    Mri sadi mai iska kya asar hoga
    pls upay bataiye

  8. Hello sir
    my name is ashwani from district shmali (up)
    my DOB 07/07/1987 h janam time din Tuesday morning me lagbhag subah ko 7 am k aas pas hua tha.
    meri kundli k anusar m mangli hu.or m renu name ki ladki se last 10 saal se pyaar krta hu.or wo mangli nhi h .but m mangli hu.
    kya hm Dono shadi kr sakte h plzz help me …..Sir.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Ayurvedic Solution © 2016 Frontier Theme
Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.