ग्रह पीड़ा निवारण के उपाय ( Graha Pida Nivaran Ke Upay )

ग्रह पीड़ा निवारण के उपाय ( Graha Pida Nivaran Ke Upay ) :

Graha Pida Nivaran Ke Upay

आचार्य वराहमिहिर ने अपने प्रस‍िद्ध ग्रंथ ‘वराह संहिता’ में ग्रह पीड़ा निवारण के लिए रत्न धारण करने पर बल दिया है।

दीर्घकालीन एवं असाध्य रोगों के लिए ‘रुद्रसूक्त’ का पाठ या  ‘महामृत्युंजय’ का जाप कराना भी शुभ फल देने वाला होता है।

Updated: August 9, 2016 — 1:45 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Ayurvedic Solution © 2016 Frontier Theme
Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.