Category: ग्रहों की शांति के उपाय

शुक्र के अशुभ होने के कारण ( Shukar Ke Ashubh Hone Ke Karan )

शुक्र के अशुभ होने के कारण ( Shukar Ke Ashubh Hone Ke Karan ) :

शुक्र के अशुभ होने के कारण ( Shukar Ke Ashubh Hone Ke Karan in Hindi ) :

शुक्र निम्न कारण से अशुभ फल देता हैं : –

  • अपने जीवनसाथी को कष्ट देने,
  • किसी भी प्रकार के गंदे वस्त्र पहनने,
  • घर में गंदे एवं फटे पुराने वस्त्र रखने से शुभ-अशुभ फल देता है।

ग्रह पीड़ा निवारण के उपाय ( Graha Pida Nivaran Ke Upay )

ग्रह पीड़ा निवारण के उपाय ( Graha Pida Nivaran Ke Upay ) :

Graha Pida Nivaran Ke Upay

आचार्य वराहमिहिर ने अपने प्रस‍िद्ध ग्रंथ ‘वराह संहिता’ में ग्रह पीड़ा निवारण के लिए रत्न धारण करने पर बल दिया है।

दीर्घकालीन एवं असाध्य रोगों के लिए ‘रुद्रसूक्त’ का पाठ या  ‘महामृत्युंजय’ का जाप कराना भी शुभ फल देने वाला होता है।

ग्रह शांति के उपाय ( Grah Shanti Ke Liye Upay )

ग्रह शांति के उपाय ( Grah Shanti Ke Liye Upay ) :

ग्रह शांति के लिये कुछ अचूक उपाय (Grah Shanti Ke liye Upay in Hindi) :

  • रोज सुबह जब आप उठें तो सबसे पहले दोनों हाथों की हथेलियों को कुछ क्षण देखकर चेहरे पर तीन चार बार फेरें। धर्म ग्रंथों के अनुसार हथेली के अग्र भाग में मां लक्ष्मी, मध्य भाग में मां सरस्वती व मूल भाग (मणि बंध) में भगवान विष्णु का स्थान होता है। इसलिए रोज सुबह उठते ही अपनी हथेली देखने से किस्मत चमक जाती है। प्रतिदिन सुबह पीपल के पेड़ पर एक लोटा जल चढ़ाएं। मान्यता है कि पीपल में भगवान विष्णु का वास होता है। 
  • रोज ये उपाय करने से भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं और शुभ फल प्रदान करते हैं। शास्त्रों के अनुसार गाय, पक्षी, कुत्ता, चींटियां और मछली से हमारे जीवन की सभी समस्याएं दूर हो सकती हैं। यदि कोई व्यक्ति नियमित रूप से गाय को रोटी खिलाएं तो उसके ज्योतिषीय ग्रह दोष नष्ट हो जाते हैं। गाय को पूज्य और पवित्र माना जाता है, इसी वजह से इसकी सेवा करने वाले व्यक्ति को सभी सुख प्राप्त हो जाते हैं। इसी प्रकार पक्षियों को दाना डालने पर आर्थिक मामलों में लाभ प्राप्त होता है। व्यवसाय करने वाले लोगों को विशेष रूप से प्रतिदिन पक्षियों को दाना अवश्य डालना चाहिए। (Grah Shanti Ke liye Upay)
  • घर में स्थापित देवी-देवताओं को रोज फूलों से श्रृंगारित करना चाहिए। इस बात का ध्यान रखें कि फूल ताजे ही हो। सच्चे मन से देवी-देवताओं को फूल आदि अर्पित करने से वे प्रसन्न होते हैं. साधक का भाग्य चमका देते हैं। यदि कोई व्यक्ति दुश्मनों से परेशान हैं और उनका भय हमेशा ही सताता रहता है. तो कुत्ते को रोटी खिलाना चाहिए। नियमित रूप से जो कुत्ते को रोटी खिलाते हैं. उन्हें दुश्मनों का भय नहीं सताता है।
  • कर्ज से परेशान से लोग चींटियों को शक्कर और आटे डालें। ऐसा करने पर कर्ज की समाप्ति जल्दी हो जाती है। जिन लोगों की पुरानी संपत्ति उनके हाथ से निकल गई है या कई मूल्यवान वस्तु खो गई है. तो ऐसे लोग यदि प्रतिदिन मछली को आटे की गोलियां खिलाते हैं. तो उन्हें लाभ प्राप्त होता है। मछलियों को आटे की गोलियां देने पर पुरानी संपत्ति पुन: प्राप्त होने के योग बनते हैं। घर को साफ-स्वच्छ रखें।
  • प्रतिदिन सुबह झाड़ू-पोछा करें। शाम के समय घर में झाड़ू-पोछा न करें। ऐसा करने से मां लक्ष्मी रूठ जाती हैं और साधक को आर्थिक हानि का सामना करना पड़ सकता है। रोज जब भी घर से निकले तो उसके पहले अपने माता-पिता और घर के बड़े बुजुर्गों का चरण स्पर्श करें और आशीर्वाद लें। ऐसा करने से आपकी कुंडली में स्थित सभी विपरीत ग्रह आपके अनुकूल हो जाएंगे और शुभ फल प्रदान करेंगे। (Grah Shanti Ke liye Upay)
  • रोज जब भी घर से निकले तो उसके पहले अपने माता-पिता और घर के बड़े बुजुर्गों का चरण स्पर्श करें और आशीर्वाद लें। ऐसा करने से आपकी कुंडली में स्थित सभी विपरीत ग्रह आपके अनुकूल हो जाएंगे और शुभ फल प्रदान करेंगे। इन उपायों को जो भी व्यक्ति करता है. उनके सभी दुख-दर्द दूर हो जाते हैं और अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है।

केतु के उपाय ( Ketu Ke Upay )

Ketu Ke Upay in Hindi :

केतु के उपाय (Ketu Ke Upay) :

क्या ? आपकी कुंडली में केतु ग्रह कमजोर है या आपके केतु की महादशा या दशा चल रही हैं तो कीजिये केतु के शांति के निम्न उपाय :

इसके अशुभ प्रभाव में होने पर मूत्र एवं किडनी संबंधी रोग होवे, जोड़ों का रोग उभरे, संतान को पीड़ा होवे

  • अपने खाने में से कुत्ते को हिस्सा देवें,
  • तिल व कपिला गाय दान में दें,
  • कान छिदवायें व
  • श्री विघ्नविनायक की आराधना करें ।

Ketu Ke Upay

केतु के अशुभ होने के कारण (Ketu Ke Upay Ashubh Hone Ke Karan) :

केतु निम्न कारण से अशुभ फल देता हैं : –

  • भतीजे एवं भांजे का दिल दुखाने एवं उनका हक ‍छीनने पर केतु अशुभ फल देना है।
  • कुत्ते को मारने एवं किसी के द्वारा मरवाने पर,
  • किसी भी मंदिर को तोड़ने अथवा ध्वजा नष्ट करने पर इ
  • ज्यादा कंजूसी करने पर केतु अशुभ फल देता है।
  • किसी से धोखा करने व झूठी गवाही देने पर भी राहु-केतु अशुभ फल देते हैं।

चन्द्र शान्ति के उपाय ( Chandra Shanti Ke Upay )

चन्द्रमा एक शुभ ग्रह हैं, चन्द्रमा को भी सूर्य के समान महत्वपूर्ण और प्रभावशाली मन गया हैं। यदि आपका चन्द्रमा सही नहीं हैं तो हम आपको आज कुछ Chandra Shanti Ke Upay बताते हैं।

Chandra Shanti Ke Upay

चन्द्र शान्ति के उपाय (Chandra Shanti Ke Upay in Hindi):

  • श्वेत तथा गोल मोती चांदी की अंगूठी में रोहिणी ,हस्त ,श्रवण नक्षत्रों में जड़वा कर सोमवार या पूर्णिमा तिथि में पुरुष दायें हाथ की तथा स्त्री बाएं हाथ की अनामिका या कनिष्टिका अंगुली में धारण करें। धारण करने से पहले ॐ श्रां श्रीं श्रौं सः चन्द्रमसे नमः मन्त्र के १०८ उच्चारण से इस में ग्रह प्रतिष्ठा करके धूप,दीप ,पुष्प ,अक्षत आदि से पूजन कर लें।
  • सोमवार के नमक रहित व्रत रखें.
  • ॐ श्रां श्रीं श्रौं सः चन्द्रमसे नमः मन्त्र का ११००० संख्या में जाप करें।
  • सोमवार को चावल ,चीनी ,आटा, श्वेत वस्त्र ,दूध दही ,नमक ,चांदी इत्यादि का दान करें।

शनि के उपाय ( Shani ke Upay ) Shani Sade Sati ke Upay in Hindi

Shani ke Upay aur Shani Sade Sati ke Upay in Hindi :

आज हम आपको Shani ke Upay और Shani Sade Sati ke Upay के बारे में बताते है-

शनि ग्रह के उपाय (Shani ke Upay) :

  • शनिवार को पीपल के वृक्ष के चारों और 7 बार कच्चा सूत लपेंटे और यह क्रिया करते समय शनि के किसी भी एक मंत्र का जप करते रहें। इसके बाद वृक्ष का धूप-दीप से पूजन करें। ध्यान रखें जब यह पूजा करें उस दिन बिना नमक का भोजन ही करें।
  • शनिदेव के प्रकोप को शांत कर उनको प्रसन्न करने के लिए आप शनि की पत्नी के नामों का नित्य पाठ करें तो शुभ रहेगा। मंत्र कुछ इस तरह है। ध्वजिनी धामिनी चैव कंकाली कलहप्रिहा।

          कंकटी कलही चाउथ तुरंगी महिषी अजा।। 

          शनैर्नामानि पत्नीनामेतानि संजपन् पुमान्।

          दुःखानि नाश्येन्नित्यं सौभाग्यमेधते सुखमं।।

  • यदि कुष्ठरोग वंशानुगत न होकर शनि के कोप के कारण हुआ है तो इससे मुक्ति पाने के लिए डॉक्टरी सलाह के साथ इस मंत्र का जाप करने से यह रोग दूर हो सकता है। ऊँ ऐं ह्रीं श्रीं शनैश्चरायः नमः
  • शनिग्रह के अशुभ प्रभाव के कारण शरीर पर चर्म रोग हो जाए शनिवार के दिन बिछुआ की जड़( एक प्रकार का जंगली पौधा) को बाजू में बांधने से आपकी आशा के अनुरूप लाभ होता है।
  • नीलम को शनि का रत्न माना जाता है। इसका प्रभाव क्योंकि तत्काल प्रारंभ हो जाता है। इसल इसे धारण करते समय सावधानी रखें।प्रत्येक शनिवार को वट और पीपल के वृक्ष के नीचे सूर्योदय से पहले कड़वे तेल का दीपक जलाकर कच्चा दूध अर्पित करें। शनिदेव जरूर प्रसन्न होंगे।

शनि के उपाय (Shani ke Upay) :

क्या? आपकी कुंडली में शनि ग्रह कमजोर है या आपके शनि की महादशा या दशा चल रही हैं तो कीजिये शनि के शांति के निम्न उपाय :

शनि के अशुभ प्रभाव में होने पर मकान या मकान का हिस्सा गिर जावे या क्षति होवे, अंगों के बाल झड़ जावे, काले संपत्ति का नाश होवे, आग लग जावे व धन संपत्ति का नाश हो

  • कौवे को प्रतिदिन रोटी खिलावे,
  • तेल में अपना मुख देख वह तेल दान करें.
  • लोहा, काला उडद, चमड़ा, काला सरसों आदि दान दें ।
  • भगवान शिव की आराधना करें ।
  • यदि कुण्डली में शनि लग्न में हो तो भिखारी को तांबे का सिक्का या बर्तन कभी न दें यदि देंगे तो पुत्र को कष्ट होगा ।
  • यदि शनि आयु भाव में स्थित हो तो धर्मशाला आदि न बनवायें ।

शनि ग्रह की शांति के उपाय (Shani grah ki shanti ke Upay) :

  • शमी वृक्ष की जड़ को विधि-विधान पूर्वक घर लेकर आएं। शनिवार के दिन श्रवण नक्षत्र में या किसी योग्य विद्वान से अभिमंत्रित करवा कर काले धागे में बांधकर गले या बाजू में धारण करें। शनिदेव प्रसन्न होंगे तथा शनि के कारण जितनी भी समस्याएं हैं, उनका निदान होगा।
  • शनिवार के दिन शनि यंत्र की स्थापना व पूजन करें। इसके बाद प्रतिदिन इस यंत्र की विधि-विधान पूर्वक पूजा करने से शनिदेव प्रसन्न होते हैं। प्रतिदिन यंत्र के सामने सरसों के तेल का दीप जलाएं। नीला या काला पुष्प चढ़ाएं ऐसा करने से लाभ होगा।
  • प्रत्येक शनिवार के दिन बंदरों और काले कुत्तों को बूंदी के लड्डू खिलाने से भी शनि का कुप्रभाव कम हो जाता है अथवा काले घोड़े की नाल या नाव में लगी कील से बना छल्ला धारण करें।
  • चोकर युक्त आटे की 2 रोटी लेकर एक पर तेल और दूसरी पर शुद्ध घी लगाएं। तेल वाली रोटी पर थोड़ा मिष्ठान रखकर काली गाय को खिला दें। इसके बाद दूसरी रोटी भी खिला दें और शनिदेव का स्मरण करें.
  • शनिवार के दिन भैरवजी की उपासना करें और शाम के समय काले तिल के तेल का दीपक लगाकर शनि दोष से मुक्ति के लिए प्रार्थना करें।
  • काले धागे में बिच्छू घास की जड़ को अभिमंत्रित करवा कर शनिवार के दिन श्रवण नक्षत्र में या शनि जयंती के शुभ मुहूर्त में धारण करने से भी शनि संबंधी सभी कार्यों में सफलता मिलती है।

Shani ke Upay aur Shani Sade Sati ke Upay

प्रथम भाव में शनि के निवारण के उपाय / टोटके (Pahle Bhav Me Shani Ke Upay or totke) :

  • अपने ललाट पर प्रतिदिन दूध अथवा दही का तिलक लगाए।
  • शनिवार केदिन न तो तेल लगाए और न ही तेल खाए।
  • तांबे के बने हुए चार साँप शनिवार के दिन नदी में प्रवाहित करे.
  • भगवान शनिदेव या हनुमान जी के मंदिर में जाकर यह प्रथना करे की प्रभु ! हमसे जो पाप हुए हैं, उनके लिए हमे क्षमा करो, हमारा कल्याण करो।
  • जब भी आपको समय मिले शनि दोष निवारण मंत्र का जाप करे।

दूसरे भाव में शनि के उपाय /टोटके (dusre Bhav Me Shani Ke Upay or totke) :

  • शराब का त्याग करे और मांसाहार भी न करे।
  • साँपो को दूध पिलाए कभी भी साँपो को परेशान न करे , न ही मारे।
  • दो रंग वाली गाय / भैस कभी भी न पालें।
  • अपने ललाट पर दूध / दही का तिलक करे।
  • रोज शनिवार को कडवे तेल का दान करें.
  • शनिवार के दिन किसी तालाब, नदी में मछलियों को आटा डाले।
  • सोते समय दूध का सेवन न करें।
  • शनिवार के दिन सिर पर तेल न लगाएं।

तीसरे भाव में शनि के उपाय /टोटके (Tisre Bhav Me Shani Ke Upay or totke) :

  • आपके घर का मुख्य दरवाजा यदि दक्षिण दिशा की ओर हो तो उसे बंद करवा दे।
  • रोज शनि चालीसा पढ़ें तथा दूसरों को भी शनि चालीसा भेंट करें।
  • शराब का त्याग करे और मांसाहार भी न करे।
  • गले में शनि यंत्र धारण करें.
  • मकान के आखिर में एक अंधेरा कमरा बनवाएँ।
  • अपने घर पर एक काला कुत्ता पाले तथा उस का ध्यान रखें।
  • घर क अंदर कभी हैंडपम्प न लगवाएँ।

चतुर्थ भाव में शनि के उपाय / टोटके (Chothe Bhav Me Shani Ke Upay or totke) :

  • रात में दूध न पिये।
  • पराई स्त्री से अवैध संबंध कदापि न बनाएँ।
  • कौवों को दना खिलाएँ।
  • सर्प को दूध पिलाएँ।
  • काली भैस पालें।
  • कच्चा दूध शनिवार दिन कुएं में डालें।
  • एक बोतल शराब शनिवार के दिन बहती नदी में प्रवाहित करें।

पंचम भाव में शनि के उपाय / टोटके (Pancham House Me Shani Ke Upay or totke) :

  • पुत्र के जन्मदिन पर नमकीन वस्तुएं बांटनी चाहिए, मिठाई आदि नहीं।
  • माँस और शराब का सेवन न करें.
  • काला कुत्ता पालें और उसका पूरा ध्यान रखें।
  • शनि यंत्र धारण करें।
  • शनिदेव की पुजा करें।
  • शनिवार के दिन अपने भार के दसवें हिस्से के बराबर वजन करके, बादाम नदी में प्रवाहित करने का कार्य करें।

छठवे भाव में शनि के उपाय / टोटके (Chhathe Bhav Me Shani Ke Upay or totke) :

  • चमड़े के जूते , बैग , अटैची आदि का प्रयोग न करें।
  • शनिवार का व्रत करें.
  • चार नारियल बहते पानी में प्रवाहित करें। ध्यान रहे, गंदे नाले मे नहीं करें, परिणाम बिल्कुल उल्टा होगा।
  • हर शनिवार के दिन काली गाय को घी से चुपड़ी हुई रोटी नियमित रूप से खिलाएँ।
  • शनि यंत्र धारण करें।

सप्तम भाव में शनि के उपाय / टोटके (Saptam House Me Shani Ke Upay or totke) :

  • पराई स्त्री से अवैध संबंध कदापि न बनाएँ।
  • हर शनिवार के दिन काली गाय को घी से चुपड़ी हुई रोटी नियमितरूप से खिलाएँ।
  • शनि यंत्र धारण करें।
  • मिट्टी के पात्र में शहद भरकर खेत में मिट्टी के नीचे दबाएँ। खेत की जगह बगीचे में भी दबा सकते हैं।
  • अपने हाथ में घोड़े की नाल का शनि छल्ला धारण करें।

अष्टम भाव में शनि के उपाय / टोटके ( Eighth Bhav Me Shani Ke Upay or totke) :

  • गले में चाँदी की चेन धारण करें.
  • शराब का त्याग करे और मांसाहार भी न करे।
  • शनिवार के दिन आठ किलो उड़द बहती नदी में प्रवाहित करें। उड़द काले कपड़े में बांध कर ले जाएँ और बंधन खोल कर ही प्रबहित करें।
  • सोमवार के दिन चावल का दान करना आपके लिए उत्तम हैं।
  • काला कुत्ता पालें और उसका पूरा ध्यान रखें।

नवम भाव में शनि के उपाय / टोटके (Ninth Bhav Me Shani Ke Upay or totke) :

  • पीले रंग का रुमाल सदैव अपने पास रखें।
  • साबुत मूंग मिट्टी के बर्तन में भरकर नदी में प्रवाहित करें.
  • साव 6 रत्ती का पुखराज गुरुवार को धारण करें।
  • कच्चा दूध शनिवार दिन कुएं में डालें।
  • हर शनिवार के दिन काली गाय को घी से चुपड़ी हुई रोटी नियमितरूप से खिलाएँ।
  • शनिवार के दिन किसी तालाब, नदी में मछलियों को आटा डाले।

दशम भावमें शनि के उपाय उपाय / टोटके (tenth Bhav Me Shani Ke Upay or totke) :

  • पीले रंग का रुमाल सदैव अपने पास रखें.
  • आप अपने कमरे के पर्दे , बिस्तर का कवर , दीवारों का रंग आदि पीला रंग की करवाए यह आप के लिए उत्तम रहेगा।
  • पीले लड्डू गुरुवार के दिन बाँटे।
  • आपने नाम से मकान न बनवाएँ।
  • अपने ललाट पर प्रतिदिन दूध अथवा दही का तिलक लगाए।
  • शनि यंत्र धारण करें।
  • जब भी आपको समय मिले शनि दोष निवारण मंत्र का जाप करे।

एकादश भाव में शनि के उपाय / टोटके (Eleventh Bhav Me Shani Ke Upay or totke) :

  • शराब और माँस से दूर रहें।
  • मित्र के वेश मे छुपे शत्रुओ से सावधान रहें।
  • सूर्योदय से पूर्व शराब और कड़वा तेल मुख्य दरवाजे के पास भूमि पर गिराएँ।
  • परस्त्री गमन न करें।
  • शनि यंत्र धारण करें.
  • कच्चा दूध शनिवार के दिन कुएं में डालें।
  • कौवों को दाना खिलाएँ।

द्वादश भाव में शनि के उपाय / टोटके (Twelfth House Me Shani Ke Upay or totke) :

  • जातक झूठ न बोले।
  • शराब और माँस से दूर रहें।
  • चार सूखे नारियल बहते पानी में प्रवाहित करें।
  • शनि यंत्र धारण करें।
  • शनिवार के दिन काले कुत्ते ओर गाय को रोटी खिलाएँ।
  • शनिवार को कडवे तेल , काले उड़द का दान करे।
  • सर्प को दूध पिलाएँ।

शनि के अशुभ होने के कारण ( shani ke upay aur karan ) :

शनि निम्न कारण से अशुभ फल देता हैं : –

  • ताऊ एवं चाचा से झगड़ा करने एवं किसी भी मेहनतम करने वाले व्यक्ति को कष्ट देने, अपशब्द कहने
  • शराब, माँस खाने पीने से शनि देव अशुभ फल देते हैं।
  • कुछ लोग मकान एवं दुकान किराये से लेने के बाद खाली नहीं करते अथवा उसके बदले पैसा माँगते हैं तो शनि अशुभ फल देने लगता है।

शनि की ढ़ैया या साढ़े साती के उपाय (Shani Sade Sati ke Upay) :

यदि कुण्ड़ली में शनि, राहू, केतु की अशुभ दृष्टि, इसकी अशुभ दशा , शनि की ढ़ैया या साढ़े साती (Shani Sade Sati) चल रही तो कीजिये यह छोटा सा उपाय –

  • एक सूखे मेवे वाला नारियल लेकर उस पर मुँह के आकार का एक कट करें. उसमें पाँच रुपये का मेवा और पाँच रुपये की चीनी का बुरादा भर कर ढ़क्कन को बन्द कर दें. पास ही किसी किसी पीपल के पेड़ के नीचे एक हाथ या सवा हाथ गढ्ढ़ा खोदकर उसमें नारियल को स्थापित कर दें. उसे मिट्टी से अच्छे से दबाकर घर चले जायें. ध्यान रखें कि पीछे मुड़कर नही देखना. सभी प्रकार के मानसिक तनाव से छुटकारा मिल जायेगा।

 

मंगल के उपाय ( Mangal Grah Upay or Mangal ke Jyotish Upay )

Mangal Grah or Mangal ke Jyotish Upay in Hindi :

मंगल (Mars) के उपाय (Mangal Grah or Mangal ke Jyotish Upay) :

क्या आपकी कुंडली में मंगल ग्रह कमजोर है या आपके मंगल की महादशा या दशा चल रही हैं तो कीजिये मंगल के शांति के निम्न उपाय (Mangal ke Jyotish Upay) :

मंगल के अशुभ होने पर बच्चे जन्म होकर मर जावे, आंख में रोग होवे, गठिया रोग दुख देवे, रक्त की कमी या खराबी वाला रोग हो जावे, हर समय क्रैंध आवे, लड़ाइ झगड़ा होवे।

  • हनुमान जी की आराधना एवं उपवास रखें ,
  • तंदूर की मीठी रोटी दान करें ,
  • बहते पानी में रेवड़ी व बताशा बहायें.
  • मसूर की दाल दान में देवें।

मंगल के अशुभ होने के कारण (Mangal Ke Ashubh Hone Ke Karan) :

मंगल निम्न कारण से अशुभ फल देता हैं : –

  • भाई से झगड़ा करने.
  • भाई के साथ धोखा करने से मंगल के अशुभ फल शुरू हो जाते हैं।
  • अपनी पत्नी के भाई (साले) का अपमान करने पर भी मंगल अशुभ फल देता है।

Mangal Grah, Mangal ke Jyotish Upay

प्रथम भाव में मंगल के उपाय / टोटके (Mangal ke Upay or Totke) :

  • मुफ्त के उपहार या दान नही लेना चाहिए।
  • बुरे कामों और झूठ से बचना चाहिए।
  • संतों ओए फकीरो की संगति से बचना चाहिए।
  • हाथीदांत से बानी हुई चीजो से बचना चाहिए।

दूसरे भाव में मंगल के उपाय / टोटके (Mangal Graha Upay or Totke) :

  • चन्द्रमा से जुसे व्यापार जैसे की कपड़ो का आदि करने से चन्द्रमा मजबूत होता हैं जिससे जातक को व्यापार म सफलता मिलती हैं।
  • हो सके आपके ससुराल वाले आम लोगों के लिए पिने के पानी की व्यवस्था करवा सके।
  • घर में हिरन की त्वचा रखे।

तीसरे भाव में मंगल के उपाय / टोटके (Mangal Grah Upay or Totke) :

  • नरम दिल के बनें और अहंकार से बचे समृद्दि प्राप्ति के लिए भाइयों के लिए अच्छे बने।
  • आप साथ हाथीदांत की कोई भी बनी वस्तु रखे।
  • बाँय हाथ में चाँदी की अंगूठी पहने।

चतुर्थ भाव में मंगल के उपाय / टोटके (Mangal Grah Upay or Totke) :

  • किसी बरगद की पेड़ की जड़ों पर मीठा दूध चढ़ाये और वहाँ की गीली मिटटी को अपनी नाभि पर लगाये।
  • आग की तबाही से बचने के लिए अपने घर या दुकान या ऑफिस में चीनी की खाली बैग ( बोरे ) रखें.
  • हमेशा आपने साथ चाँदी की एक चौकोर टुकड़ा रखें।
  • काले, काने, और विकलांग व्यक्ति से दूर रहें।

पंचम भाव में मंगल के उपाय / टोटके (Mangal Grah Upay or Totke) :

  • अपना नैतिक चरित्र अच्छा बनाये रखें।
  • रात को अपने बिस्तर के सिरहाने एक बर्तन में पानी रखें और सुबह उसे किसी गमले में डाल दें।
  • अपने पूर्वजो पर विस्वास करें और घर में एक नीम का पेड़ लगाये।

छठवे भाव में मंगल के उपाय / टोटके (Mangal Grah Upay or Totke) :

  • बेटे के जन्म के समय मिठाई की जगह पर नमक बांटें।
  • जातक के भाइयो को चाहिए की अपनी सुरक्षा और समृद्दि के लिए जातक को खुश रखें और इसके लिए जातक को कोई वस्तु या कुछ देते रहे लेकिन जातक ऐसी वस्तु ना ले जिससे पानी में फेक देनी हो।
  • जातक के लड़कों को सोना नही पहनना चाहिए।
  • पारिवारिक सुख के लिए शनि का उपाय करें और माता पिता के स्वास्थ्य और दुश्मनों के विनाश के लिए गणेश जी की पूजा करें।

सप्तम भाव में मंगल के उपाय / टोटके (Mangal Grah Upay or Totke) :

  • समृद्दि के लिए घर में ठोस चांदी का टुकड़ा रखें।
  • हमेशा बेटी, बहन, भाभी और विधवाओ को मिठाई भेंट करें।
  • बार बार एक छोटी सी दीवार बनाये और गिराये।

अष्टम भाव में मंगल के उपाय / टोटके (Mangal Grah Upay or Totke) :

  • विधवाओ का आशीर्वाद प्राप्त करें और गले में एक चांदी की चेन पहनें।
  • तंदूर की बनी मीठी रोटी कुत्तों को दें.
  • भोजन रसोई में ही करें।
  • अपने घर के अंत में एक छोटा से अधेरा कमरा बनाये और उसमे सूर्य की रोशनी ना आने दें।
  • धार्मिक स्थानों में चावल, गुड, और चने की दाल दान करें।
  • किसी मिटटी के बर्तन में “देशी खांड” भरें और श्मशान भूमि में पास दफनाए।

नवम भाव में मंगल के उपाय / टोटके (Mangal Grah Upay or Totke) : 

  • अपने बड़े भाई की आज्ञा मानें।
  • अपने भाभी यानि भाई की पत्नी की सेवा करें.
  • नास्तिक न बने और अपने धार्मिक रीति रिवाज का पालन करें।
  • धार्मिक और पूजा स्थलों पर चावल, दूध और गुड चढ़ाये।

दशम भाव में मंगल के उपाय / टोटके (Mangal Grah Upay or Totke) :

  • पैतृक संपत्ति और घर का सोना ना बेचें.
  • घर में हिरन पाले।
  • दूध उबालते समय इस बात का ख्याल रखें की की दूध उफान कर आग में ना गिरे।
  • काने और नि: संतान लोगों की सेवा करें।

एकादश भाव में मंगल के उपाय / टोटके (Mangal Grah Upay or Totke) :

  • पैतृक संपत्ति ना बेचें।
  • किसी मिटटी के बर्तन में शहद या सिंदूर रखना अच्छे परिणाम देगा।

द्वादश भाव में मंगल के उपाय / टोटके (Mangal Grah Upay or Totke) :

  • सुबह खाली पेट शहद का सेवन करें.
  • मिठाई खाना और दूसरों को भी देने से जातक के धन की वृद्दि होगी

बृहस्पति ग्रह के उपाय ( Guru Graha Mantra or Brihaspati Mantra )

Guru Graha Mantra or Brihaspati Mantra in Hindi :

हम आपको गुरु के अशुभ होने के कारण or बृहस्पति ग्रह के उपाय ( Guru Graha Mantra or Brihaspati Mantra ) के बारे में कुछ जानकारी देने का प्रयास करते है, इनसे आपको कुछ फायदा होगा।

बृहस्‍पति मजबूत के उपाय ( Brihaspati Mantra or Brihaspati Upay) :

देव गुरू बृहस्पति की अशुभता समाप्त करने के लिए केले के वृक्ष के साथ पीपल के वृक्ष की भी निममित सेवा करें तो लाभ होगा।

गुरु (Jupiter) के उपाय (Guru Graha Mantra or Guru Upay) :

क्या? आपकी कुंडली में गुरु ग्रह कमजोर है या आपके गुरु की महादशा या दशा चल रही हैं तो कीजिये गुरु के शांति के निम्न उपाय :

देव गुरु वृहस्पति के अशुभ प्रभाव में आने पर सिर के बाल झड़ने लगे, सोना खो जाये या चोरी हरे जावे, शिक्षा में बाधा आवे, अपयश होवे

  • माथे पर केशर का तिलक लगावें,
  • कोइ भी अच्छा कार्य करने के पूर्व अपना नांक साफ करें ।
  • दान में हल्दी, दाल, केसर आदि देवें व ब्रम्हा जी की पूजा करें ।

गुरु के अशुभ होने के कारण :

गुरु निम्न कारण से अशुभ फल देता हैं : –

  • अपने पिता, दादा, नाना को कष्ट देने अथवा इनके समान सम्मानित व्यक्ति को कष्ट देने
  • साधु संतों को कष्ट देने से गुरु अशुभ फल देता है।

Guru Graha Mantra or Brihaspati Mantra

प्रथम भाव में गुरु के उपाय / टोटके (Guru Graha Mantra) :

  • बुध, शुक्र और शनि से संबंधित वस्तुए धार्मिक जगह पर दान करें.
  • गायों की सेवा करें और अछूतों की मदद करें।

दूसरे भाव में गुरु के उपाय / टोटके (Guru Graha Mantra) :

  • दान देने से समृद्दि बढ़ेगी
  • यदि आपके घर के सामने की सड़क में कोई गड्ढा है तो उससे भर दे।

तीसरे भाव में गुरु के उपाय / टोटके (Guru Graha Mantra) :

  • देवी दुर्गा माँ की पूजा करें और छोटी कन्याओ को मिठाई और फल देते हुए उनके पैर छू कर उनका आशीर्वाद लें
  • चापलूसों से दूर रहें

चतुर्थ भाव में गुरु के उपाय / टोटके (Guru Graha Mantra) :

  • घर में मंदिर ना बनाये
  • बड़ो की सेवा करें.
  • सांप को दूध पिलाये
  • कभी भी नंगे बदन ना रहे।

पंचम भाव में गुरु के उपाय / टोटके (Guru Upay) :

  • किसी भी तरह का दान या उपहार स्वीकार न करें
  • पुजारियों और साधुओ की सेवा करें।

छठवे भाव में गुरु के उपाय / टोटके ( Guru Upay) : 

  • गुरु के सम्बंधित वस्तुए मंदिर में भेंट करें
  • मुर्गा को दाना डाले
  • पुजारी को कपडे भेंट करें।

सप्तम भाव में गुरु के उपाय / टोटके (Brihaspati Mantra):

  • भगवान शिव की पूजा करें
  • घर में किसी भी देवता की मूर्ति न रखें
  • हमेशा अपने साथ किसी पीले कपडे में बांध कर सोना रखें
  • पीले कपडे पहने हुए साधु और फकीरो से दूर रहें।

अष्टम भाव में गुरु के उपाय / टोटके (Brihaspati Upay) :

  • राहु से सम्बधित चीजे जैसे गेंहू, जौ, नारियल आदि पानी में बहाये
  • श्मशान में पीपल का पेड़ लगाये.
  • मंदिर में घी आलू और कपूर दान करें।

नवम भाव में गुरु के उपाय / टोटके (Brihaspati Mantra) :

  • हर रोज मंदिर जाना चाहिए
  • शराब पीने से बचें
  • बहते पानी में चावल बहाये।

दशम भाव में गुरु के उपाय / टोटके (Brihaspati Mantra) :

  • कोई भी काम शुरू करने से पहले अपनी नाक साफ़ करें
  • नदी के बहते पानी में ४३ दिन तक ताम्बे के सिक्के बहाये
  • धार्मिक स्थानो में बादाम बांटें
  • घर के भीतर मंदिर बनाकर मूर्तिया स्थापित न करें.
  • माथे पर केसर का तिलक लगाये।

एकादश भाव में गुरु के उपाय / टोटके (Brihaspati Mantra) :

  • हमेशा अपने शरीर पर सोना पहने
  • ताम्बे का कड़ा पहने.
  • पीपल के पेड़ में जल चढ़ाये।

द्वादश भाव में गुरु के उपाय / टोटके (Brihaspati Mantra) :

  • किसी भी मामले में झूठी गवाही से बचें
  • साधुओ गुरुओ और पीपल के पेड़ की सेवा करें
  • रात में अपने बिस्तर के सिरहाने पानी और सोंफ रखें।

शुक्र के उपाय ( Shukra Upay or Shukra Mantra or Shukra Dasha )

Shukra Upay or Shukra Mantra or Shukra Dasha Hindi me :

हम आपको शुक्र उपाय, शुक्र मंत्र, शुक्र दशा (Shukra Upay or Shukra Mantra or Shukra Dasha) के बारे में कुछ जानकारी देने का प्रयास करते है, इनसे आपको कुछ फायदा होगा।

प्रथम भाव में शुक्र के उपाय / टोटके (Shukra Upay or Shukra Mantra) :

  • २५ साल से पहले शादी ना करें
  • नए काम चालू करने से पहले दूसरों की सलाह ले
  • काले रंग की गाय की सेवा करें
  • दिन के समय सेक्स न करें
  • दही मिला कर नहाये.
  • गोमूत्र का सेवन करें।

दूसरे भाव में शुक्र के उपाय / टोटके (Shukra Upay or Shukra Mantra) :

  • गायों को हल्दी के पीले रंगे हुए २ किलोग्राम आलू खिलाये
  • मंदिर में २ किलोग्राम गाये का घी भेंट करें
  • व्यभिचार से बचें।

तीसरे भाव में शुक्र के उपाय / टोटके (Shukra Upay or Shukra Mantra):

  • अपनी पत्नी का सम्मान करें और अन्य वैवाहिक मामलों से बचें
  • पराई औरतों के साथ छेड़खानी से बचें।

चतुर्थ भाव में शुक्र के उपाय / टोटके (Shukra Upay or Shukra Mantra) :

  • अपनी पत्त्नी का नाम बदले और उससे औपचारिक रूप से वापस विवाह करें
  • चावल, चाँदी, और दूध नहाते हुए पानी में बहाये.
  • पत्त्नी के स्वास्थ्य सही रखने के लिए घर की छत साफ़ रखें।

Shukra Upay or Shukra Mantra or Shukra Dasha

पंचम भाव में शुक्र के उपाय / टोटके (Shukra Upay or Shukra Mantra) :

  • अपने माता पिता की मर्जी के खिलाफ शादी ना करें
  • गायों और माँ के समान महिलाओ की सेवा करें
  • पराई लड़की से सम्बन्ध नई रखें.
  • जातक दुष और दही से अपना गुप्तांग साफ़ करें।

छठवे भाव में शुक्र के उपाय / टोटके (Shukra Upay or Shukra Mantra):

  • पत्नी के बालों में सोने की हेयर किलप उपयोग करवाये
  • ख्याल रखे की पत्त्नी नंगे पैर ना चले
  • निजी अंगों को लाल दवा से साफ़ करें।

सप्तम भाव में शुक्र के उपाय / टोटके (Shukra Upay or Shukra Mantra):

  • सफ़ेद गाय न पालें
  • लाल गाये की सेवा करें.
  • जीवन साथी क वजन के समान जौ मंदिर में दान करें
  • गन्दी नाली या नदी में ४३ दिनों तक नीले फूल फेंकें।

अष्टम भाव में शुक्र के उपाय / टोटके (Shukra Upay or Shukra Mantra):

  • कोई भी वस्तु दान के रूप में ना लें
  • हर दिन मंदिर में जाये
  • तांबे के सिक्के या नीले फूल लगातार दस दिनों तक लगातार गन्दी नाली में फेंके
  • दही से अपने निजी अंग धोये।

नवम भाव में शुक्र के उपाय / टोटके (Shukra Upay or Shukra Mantra):

  • घर की नींव में चाँदी और शहद दबाएं
  • पत्नी ( या खुद लड़की हो तो स्वय ) लाल चुड़िया पहने
  • किसी नीम के पेड़ के नीचे ४३ दिनों के लिए चाँदी का टुकड़ा दबाएं।

दशम भाव में शुक्र के उपाय / टोटके (Shukra Upay or Shukra Mantra) :

  • निजी अंगो को दही से साफ़ करें।
  • घर की पश्चिमी दीवार की मिटटी ही होनी चाहिए।
  • शराब, अंडा और मांसहारी भोजन ना करें.
  • बीमार होने पर काली रंग की गाये का दान करें।

एकादश भाव में शुक्र के उपाय / टोटके (Shukra Upay or Shukra Mantra) :

  • बुध का उपाय करें।
  • शनिवार को तेल का दान करें।
  • ज्यादातर ऐसे जातक को वीर्य में शुक्राणुओ की कमी हो सकती है इसलिए दूध में सोने के टुकड़े को गर्म करके बुझाकर दूध पिए।

द्वादश भाव में शुक्र के उपाय / टोटके (Shukra Upay or Shukra Mantra) :

  • कान में सोना पहने, दूध में सोने के टुकड़े को गर्म करके बुझाकर दूध पिए, धार्मिक स्थलों की यात्रा करें।
  • धार्मिक साधु संतों को कभी दूध और भोजन न दें।
  • स्कुल, कॉलेज, ना खोले, और मुफ्त में पढ़ रहे बच्चो की मदद करें।

शुक्र (Venus) के उपाय (Shukar Ke Upay) :

क्या आपकी कुंडली में शुक्र ग्रह कमजोर है या आपके शुक्र की महादशा या दशा चल रही हैं तो कीजिये शुक्र के शांति के निम्न उपाय :

Shukar Ke Upay – दानवों के गुरु शुक्र के अशुभ प्रभाव में होने पर अंगूठे का रोग हो जावे, चलते समय अगूंठे को चोट पहुंचे, चर्म रोग होवे, स्वप्न दोष होता होवे

  • अपने खानें में से गाय को प्रतिदिन कुछ हिस्सा अवश्य देवें,
  • गाय, ज्वांर दान करें,
  • नि:सहाय व्यक्ति का पालन पोषण का जिम्मा लेवें,
  • लक्ष्मी उपासना करें ।

राहु के उपाय (Rahu Dasha Remedies or Rahu Mantra Hindi) Rahu Upay

Rahu Dasha Remedies or Rahu Mantra Hindi or Rahu Upay :

राहु के उपाय बहुत है, पर हम आपको कुछ Rahu Dasha Remedies or Rahu Mantra Hindi or Rahu Upay उपाय बता रहे है, यदि आपका राहु सही नहीं है तो आपको इनसे कुछ फायदा हो।

राहु के उपाय (Rahu Upay) :

क्या? आपकी कुंडली में राहु ग्रह कमजोर है या आपके राहु की महादशा या दशा चल रही हैं तो कीजिये राहु के शांति के निम्न उपाय :

राहु के अशुभ होने पर हांथ के नाखून अपने आप टूटने लगे, राजक्ष्यमा रोग के लक्षण प्रगट होवे, दिमागी संतुलन ठीक न रहे, शत्रुओं के चाल पे चाल से मुश्किल बढ़ जावे.

  • जौं या अनाज को दूध में धो कर बहते पानी में बहायें,
  • कोयला को पानी में बहायें,
  • मूली दान में देवें,
  • भंगी को शराब,मांस दान में दें ।
  • सिर में चुटैया रखें,
  • भैरव जी की की उपासना करें।

राहु के अशुभ होने के कारण (Rahu Dasha Remedies) :

राहु निम्न कारण से अशुभ फल देता हैं : –

  • राहु सर्प का ही रूप है अत: सपेरे का दिल ‍दुखाने से,
  • बड़े भाई को कष्ट देने से अथवा बड़े भाई का अपमान करने से,
  • ननिहाल पक्ष वालों का अपमान करने से राहु अशुभ फल देता है।

Rahu Dasha Remedies or Rahu Mantra HindiRahu Upay

Rahu Dasha Remedies or Rahu Mantra Hindi or Rahu Upay Hindi me :

प्रथम भाव में राहु के उपाय / टोटके :

  • बहते हुए जल में ४०० ग्राम सुरमा बहाये 
  • गले में चाँदी पहने 
  • १:४ के अनुपात में जौ में दूध मिलाकर बहते हुए पानी में बहाये 
  • बहते हुए पानी में नारियल बहाये।

तीसरे भाव में राहु के उपाय / टोटके :

  • घर में कभी भी हाथीदांत की वस्तुए न रखें।

चतुर्थ भाव में राहु के उपाय / टोटके :

  • चाँदी पहनें
  • ४०० ग्राम धनिया या बादाम दान करें अथवा दोनों को पानी में बहाएं।

छठवे भाव में राहु के उपाय / टोटके :

  • एक काला कुत्ता पालें
  • अपनी जेब में काला सुरमा रखें
  • भाई / बहनो को कभी नुकसान न पहुचाये.

पंचम भाव में राहु के उपाय / टोटके :

  • अपने घर में चाँदी से बना हाथी रखें
  • शराब, मांसाहारी, अंडे का भोजन न करें और व्यभिचार से बचें
  • अपनी पत्नी से ही दो बार शादी करें।

अष्टम भाव में राहु के उपाय / टोटके :

  • चाँदी का एक चौकोर टुकड़ा पास रखें
  • सोते समय तकिये के नीचे सोंफ रखें
  • बिजली का काम या बिजली विभाग में काम न करें।

नवम भाव में राहु के उपाय / टोटके :

  • प्रतिदिन केसर का तिलक लगाये
  • सोना पहने
  • कुत्ता न पालें लेकिन समस्या होने पर कुत्ते को भोजन कराये.
  • ससुराल वालों से अच्छे संबंध रखें।
Ayurvedic Solution © 2016 Frontier Theme
Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.