Category: आयुर्वेदिक घरेलु उपचार

चेहरे से अनचाहे बाल को हटाने के घरेलु उपाय (Chehre Ke Anchahe bal)

चेहरे पर अनचाहे बाल होने से चेहरे की सुंदरता खराब सी लगने लगती है। महिला और पुरुष दोनों को यह समस्या हो सकती है। जब महिलावो के चेहरे की बाल बड़े या मोटे होने लगते है तो सुंदरता के लिए परेसानी खड़ी कर देते है। इससे बचने के लिए हम बाजार से अनेक दवाओं का सहारा लेते है, जो हमारे चेहरे की त्वचा को बेजान कर देती है, कई बार तो इनके साइड इफेक्ट भी पड़ जाते है। यह समस्या ज्यादातर युवावस्था में होती है। Chehre Ke Anchahe bal ko hatane ke liye gharelu upchar sabse achha hai. क्योंकि घरेलु नुस्खों के साइड इफेक्ट नही होता है। आज हम आपको चेहरे से अनचाहे बालो को हटाने के लिए 10 आसान घरेलु उपाय बताते हैं।

चेहरे से अनचाहे बाल को हटाने के 10 आसान घरेलु उपाय :

  1. Chehre se anchahe baalo को हटाने के लिए कच्चे पपीते का प्रयोग कर सकते है। इसके इस्तेमाल से चेहरे के बाल धीरे धीरे हटने लगते है. और चेहरे में निखार भी आने लगता है। इसका इस्तेमाल आप एक महीने तक करें।
    कच्चे पपीते को पीस लें, और इसमें थोड़ी सी हल्दी मिलकर पेस्ट बना लें। अब इस पेस्ट को चेहरे पर लगाकर मसाज करे, फिर 10 से 15 मिनट बाद पानी से धो लें। आप हल्दी के स्थान पर 2 चम्मच दूध का इस्तेमाल भी कर सकते है। यह चेहरे के अनचाहे बालो को खत्म कर देगा।
  2. एक चम्मच निम्बू के रस में तीन चम्मच शहद में मिला कर पेस्ट बना लें, और इसे चेहरे पर लगाकर हलके से मसाज कर, फिर लगभग 10 मिनट बाद पानी से धो लें।
  3. आप दो चम्मच शुगर, दो चम्मच निम्बू और 10 चम्मच पानी मिलाकर पेस्ट बना लें, इसे चेहरे के अनचाहे बालो पर लगा कर 15 मिनट बाद साफ पानी से धो लीजिये। आप हफ्ते में 3 से 4 बार इस प्रयोग को करें। आपके अनचाहे बाल हटने लगेंगे।
  4. एक चम्मच बेसन, आधी चम्मच हल्दी और थोड़ा पानी मिलकर चेहरे के अनचाहे बालो पर लगा लें, और कुछ समय बाद पानी से धो लें. आप इसमें एक चम्मच मलाई या दूध भी मिला सकते है, यह चेहरे के अनचाहे बालो को निकलने में सहायता करता है।
  5. चीनी को पानी को मिला कर उसे चेहरे पर मलिए, चीनी हमारे चेहरे की मृत त्वचा को हटा कर चेहरे के अनचाहे बाल हो हटा देती है। इसे हफ्ते में तीन बार करें।
  6. बेसन में दही मिलाकर पेस्ट बनाये, इस पेस्ट को चेहरे के अनचाहे बालो पर लगाकर मसाज करे, कुछ देर बाद साफ पानी से धो लें. इससे धीरे धीरे चेहरे के अनचाहे बाल खत्म होने लगते हैं। साथ ही हल्दी के प्रयोग से आपके चेहरे में निखार भी आएगा।
  7. दो चम्मच मक्का का आटा, एक चम्मच चीनी और अंडे की सफेद जर्दी मिलाकर पेस्ट तैयार करे, फिर इसे चेहरे के अनचाहे बालो पर लगा कर हलके से मसाज करे, कुछ देर बाद पानी से धो लें। यह चेहरे से मृत त्वचा को हटा कर चहरे के अनचाहे बालो से छुटकारा दिलाता है।
  8. आप नियमित 6 से 7 पुदिने के पत्तो की चाय पिये। यह शरीर में अनचाहे बालो को हटाने में सहायक है। पुदीने में पोष्टिक गुण होने के कारण यह हमारे स्वास्थ्य के लिए भी लाभदायक है।
  9. दो चम्मच मुंग की दाल और एक चम्मच निम्बू के रस में पेस्ट बना लें. इस पेस्ट को चेहरे पर लगा लें, लगभग 15 मिनट बाद साफ पानी से धो लें।
  10. दो चम्मच मसूर की दाल में शहद या दूध दाल कर पेस्ट बना लें, इस पेस्ट को चेहरे पर लगा कर कुछ देर बाद पानी से धो लें।

  11. दो चम्मच हल्दी में दूध या गुलाबजल डालकर पेस्ट बना लें, इसे अपने चेहरे पर अनचाहे बालो पर लगा लें। फिर कुछ देर बाद साफ पानी से धो लें।

  12. कैक्टस या नागफनी का पौधा रेतीली मिटटी या गर्म जगह पर पाया जाता है। चेहरे के जिस स्थान पर आप बल नही चाहते उस स्थान पर इसके दूध को लगाए. इसके दूध को मुंह और आँखों से बचाये। उस स्थान पर फिर से बाल नही उगेंगे।

दिल के लिए खतरनाक होता है ओवरटाइम ( Khatrnak hota hai Overtime )

अधिकतर लोग अधिक Payment के लिए या मजबूरी में Overtime करते है। इससे वो अपनी लाइफ में बहुत ही ज्यादा व्यस्त भी हो जाते है। जिसका सीधा असर दिल और दिमाक दोनों पर पड़ता है। जो की हमारे लिए काफी खतरनाक हो सकता है। प्रतिदिन ऑफिस 8 घंटे से ज्यादा काम करने से आपको दिल का दौरा होने का खतरा काफी ज्यादा हद तक बढ़ जाता है। हाल ही एक शोध में सामने आया है की लगातार कई घण्टो तक काम करने से दिल का दौरा और ब्रेन स्ट्रोक का खतरा काफी ज्यादा हो जाता है।

लंबे समय तक ओवरटाइम करने से मानसिक थकान और तनाव होने लगता है। जिससे हमारी दिनचर्या खराब हो जाती है, और इसका असर हमारे स्वास्थ्य पर पड़ता है। जिससे अनेक बीमारिया होने का खतरा बढ़ जाता है। टाइम नही मिल पाने के कारण हम योग या व्यायाम भी नही कर पाते है। और हमारा स्वभाव भी चिड़चिड़ा हो जाता है। जो लोग दिन में 4 से 5 घंटे का ओवरटाइम करते है उनमे दिल (Heart) का दौरा पड़ने का खतरा 40 से 80 फीसदी बढ़ जाता है।

ऑफिस में Overtime करना हमारी तरक्की के लिए लाभदायक हो सकता है लेकिन स्वास्थ्य के लिए काफी खरनाक होता है, जो अनेक बिमारियों को निमंत्रण देता है। इस दौरान कुछ लोग धूम्रपान भी करते है जिससे केलोस्ट्रोल या मोटापे की समस्या हो जाती है। इसलिए आपको अपने स्वास्थ्य के प्रति ध्यान देने की जरुरत है। आपको शराब और धूम्रपान से दूर रहना चाहिए साथ ही सेहतमंद खुराक और नियमित व्यायाम करना चाहिए। अपने दिमाक को शांत रखे व तनाव से दूर रहे।

कॉफी पीने के फायदे और नुकसान ( Coffee Pine ke fayde aur Nuksan )

आजकल कॉफी काफी लोकप्रिय हो गयी है। इसे बनाना भी काफी आसान है। घर पर कोई मेहमान आये, हम अपने दोस्तों में गपसप लगा रहे हो या काम करते समय नींद आ रही हो उस समय हम कॉफी की चुस्की लेते है। कॉफी पीने से हमारा आलस दूर होकर शरीर में एनर्जी महसूस होती है। क्योंकि कॉफी में पाए जाने वाला कैफीन हमारे शरीर की थकान और आलस को दूर करता है। साथ ही यह हमारे तंत्रिका-तंत्र और पाचन तंत्र को सुचारू रखने में सहायक है। कॉफी पीने के स्वास्थ्य लाभ भी है और नुकसान भी है। आज हम Coffee Pine ke fayde aur Coffee ke Nuksan के बारे में बात करते है।

Coffee

कॉफी पीने के फायदे ( Coffee Pine ke fayde ) :

  1. यदि आपको अपना वजन या मोटापा कम करना है तो कॉफी इसमें मदद कर सकती है। क्योंकि कॉफी में मौजूद कैफीन हमारे शरीर की वसा को कम कर देता है, और शरीर की चर्बी को बढ़ने से रोकता है।
  2. हमने देर रात तक पढ़ाई की हो या ऑफिस का काम किया हो, इस वजह से हमें सुबह आलस और थकावट महसूस होती है, इस समय कॉफी पीने से हमारी थकावट और आलस दूर हो जाता है।
  3. कॉफी पीने से पार्किंसन (parkisons) की समस्या का खतरा कम होता है, यदि आपको पार्किंसन की समस्या है तो कॉफी सहायक है।
  4. कॉफी पीने से केंसर होने का खतरा कम होता है। कॉफी पीने वालो में त्वचा और लिवर कैंसर होने का खतरा कम होता है। यह कैंसर को दूर रखने में सहायक है।
  5. महिलावों द्वारा नियमित कॉफी का सेवन करने से स्तन (breast) का आकर बढ़ने लगता है, यदि आप कॉफी पीती है तो आपके स्तन पहले की तुलना में तेजी से बढ़ने लगेंगे।
  6. कॉफी साइकलिंग करने वालो या भरी काम करने वाले व्यक्तियों के लिए काफी फायदेमंद होती है, कॉफी में मौजूद कैफीन रक्त में फैटी एसिड का निर्माण करता है, जिससे यह हमारे शरीर में स्टैमिना (stamina) को बढ़ाता है। इससे ब्लड में एड्रेनालिन हार्मोन का लेवल बढ़ जाता है जिससे हमारा फिजिकल स्टैमिना बढ़ता है।
  7. यदि आपको लिवर से जुड़ी बीमारी है तो ब्लैक कॉफी पीना काफी फायदेमंद है, इसे आप बिना दूध और चीनी मिलाये पिए। कॉफी एंटी-ऑक्सीडेंट से भरपूर होती है।
  8. कॉफी पीने से टाइप 2 डायबिटीज होने का खतरा काफी काम हो जाता है। कॉफी पीने से दिल की बीमारी होने का खतरा भी काफी कम होता है। आप दिन में 3 बार कॉफी का सेवन कर सकते है।
  9. कॉफी में एंटी-ऑक्सीडेंट होते है, जिससे यह हमारे शरीर को बिमारियों से बचाते है और साथ ही हमारी बढ़ती हुई उम्र के असर को कम करते है।
  10. कॉफी पीने से दिमाक तेज चलता है। 60 साल से अधिक उम्र के लोग यदि कॉफी पिटे है तो अन्य लोगो की चलने में माइंड तेज कम करता हैं।
  11. कॉफी पीने वालो लोगो में अल्जाइमर होने का खतरा कम होता हैं और अवसाद का खतरा भी कुछ कम हो जाता हैं।

कॉफी पीने के  नुकसान ( Coffee Pine ke Nuksan ) :

  • ज्यादा कॉफी पीने से कैटेक्लोमाइन्स और काट्रिसोल नामक स्ट्रेस हार्मोन बाद जाते हैं, जिससे स्ट्रेस और तनाव बढ़ जाते है।
  • ज्यादा कॉफी पीने से ब्लड में ग्लूकोस लेवल बढ़ जाता है, जिससे हार्ड डिजीज होने का खतरा बढ़ जाता है। इससे मोटापा और डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता हैं।
  • ज्यादा कॉफी पीने से शरीर में डाइटरपीन्स केमिकल रिलीज होता है, जिससे कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ जाता है।
  • कॉफी का सेवन अधिक करने से इनडाइजेशन, एसिडिटी, कब्ज, कैंसर, निरासा, नींद न आने और सीने में जलन जैसी समस्याऐ होने का खतरा बढ़ जाता हैं। यूरिन भी ज्यादा आने लगता हैं जिससे शरीर के जरुरी तत्व बहार निकल जाते हैं।
  • गर्भवती महिलावों के लिए ज्यादा कॉफी पीना बहुत अधिक नुकसान देता हैं। इससे गर्भपात या नवजात बच्चे को परेशानी हो सकती हैं।

बालों के लिए घरेलु हेयर पैक ( Best Homemade Hair Packs Mask )

व्यक्तियों की Personality पर बालों का काफी प्रभाव होता है, और आजकल तो कुछ ज्यादा ही नए-नए हेयर स्टाइल चल रहे है। हमें अपने बालों की सुंदरता और स्वास्थ्य के बारे में भी ध्यान रखना चाहिए। सर्दी – गर्मी हर मौसम का हमारे शरीर और बालों पर प्रभाव पड़ता है। और हम हमारी busy life के कारण बालों पर ध्यान नही दे पाते है जिससे बाल बेजान और रूखे हो जाते है। बालों में रुसी या hair dandruff हो जाता है, फिर हम बाजार से शैम्पो या हेयर पैक लेते है जिसमे केमिकल का प्रयोग होता हैं। इससे अच्छा है की हम Homemade Hair Packs use करें। क्योंकि यह बालों को नुकसान नही देता हैं, जिससे बाल सुन्दर, घने और चमकदार बनते हैं। पार्लर जेक महंगे – महंगे पैकेज लेने के बजाय Homemade Hair Packs अच्छा रहता हैं। हम आपको कुछ Best Homemade Hair Packs और mask बता रहे हैं। जिन्हें आप अपने घर पर आसानी से बना सकते हैं।

Best Homemade Hair Packs in Hindi :

अंडे का प्रयोग : अंडे में प्रोटीन, विटामिन और एन्टीऑक्ससिडेंट पाये जाते हैं, यह बालों को पोषण प्रदान करता हैं।

  • आप एक कटोरी में 2 अंडे, आधा निम्बू, 2 बूंद शहद को मिला कर पेस्ट बना ले, फिर इस पेस्ट को बालों पर लगा ले, और 30 मिनट बाद पानी से धो लीजिये। इसके बाद थोड़ी दही लेकर 15 मिनट तक बालों में लगाए. और आयुर्वेदिक शैम्पो से धो ले, आपके बाल कोमल और मुलायम होंगे, साथ ही रुसी भी दूर होगी।
  • आप एक कटोरी में 1 अंडा, 1 छोटी चम्मच शहद, 2 चम्मच कैस्टर ऑयल मिला कर पेस्ट बना ले। 30 मिनट बाद पानी या शैम्पो से धो ले. आपके बाल चमकदार और मुलायम बनेगे। एक अच्छे आयुर्वेदिक शैम्पू का प्रयोग करें, रामदेव का सैम्पू भी काफी अच्छा हैं। आप कैस्टर ऑयल की जगह नारियल तेल या बादाम तेल का भी प्रयोग कर सकते हैं।

नीम का प्रयोग : नीम में एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-सेप्टिक गुणों के अलावा विटामिन-सी होता हैं, जिससे त्वचा साफ और डेंड्रफ दूर होता हैं।

  • मुंग की दाल और मेथी को रत को भिगो कर सुबह उसका पेस्ट बना ले। इस पेस्ट में नीम के पत्तो का रस और दही को भी मिला लें. फिर इस पेस्ट को बालो में लगा लें, और 15 मिनट बाद पानी से धो लीजिये। इससे आपके बालो में फायदा होगा।
  • मेहँदी में नीम का रस, दही, निम्बू, शहद मिला कर पेस्ट बना लें. फिर इसे बालो में लगा लें, और 10 मिनट बाद पानी से धो लीजिये। बालो को फायदा होगा।

दही का प्रयोग :

  • रात को मेथी को पानी में भिगो दीजिये, सुबह दही के साथ मिलाकर पेस्ट बना लीजिये, फिर इसे बालो में 15 मिनट लगा कर पानी से धो लीजिये।
  • मेहँदी और दही का लेप बना कर बालो में लगाने से भी बालो में काफी फायदा होता हैं। गर्मियों के मौसम में इसे उसे कर सकते हैं।

आंवला का प्रयोग : आप 1 चम्मच आंवला पाउडर, 1 चम्मच मेहँदी पाउडर और 2 कफ दही मिला कर पेस्ट बना लीजिये, इसे बालो में 30 मिनट तक लगाए रखे. फिर साफ पानी से धो लीजिये, इससे बाल सुन्दर और चमकदार होंगे।

शिलाजीत के फायदे ( Shilajit Benefits in Hindi )

शिलाजीत को अंग्रेजी में Mineral Pitch या Asphaltum कहते हैं। शिलाजीत की उत्पत्ति बड़े और उचे पहाड़ो और चट्टानों से होती हैं। गर्मियों में जब सूर्य की तेज गर्मी से पहाड़ो के धातु अंश पिघलने लगते हैं, जो की लावा या तारकोल की तरह काला और गाढ़ा होता हैं। यह सूखने के बाद चमकीला रूप ले लेता हैं इसे ही शिलाजीत कहा जाता हैं शिलाजीत में गौमूत्र जैसी गंध और काफी कड़वा होता हैं परन्तु आयुर्वेद में शिलाजीत को अमृत के समान माना हैं। शिलाजीत के सेवन से शारीरिक कमजोरी, बवासीर, मधुमेह, डायबिटीज, सूजन और यौन दुर्बलता जैसी बीमारिया दूर हो जाती हैं। शिलाजीत के नियमित उपयोग से व्यक्ति अपनी जवानी को लंबे समय तक कायम रख सकता हैं।

शिलाजीत हिमालय पर्वत के आस-पास ज्यादा मिलता हैं पर ध्यान रहे की शिलाजीत असली होना चाहिए और किसी डॉक्टर की सलाह पर सही तरीके से सेवन करना चाहिए। शिलाजीत चार प्रकार का होता हैं रजत शिलाजीत ( Silver Shilajit ), स्वर्ण शिलाजीत ( Gold Shilajit ), ताम्र शिलाजीत (Copper Shilajit ) और लौह शिलाजीत ( Iron Shilajit ). इन शिलाजीत के गुण और लाभ अलग-अलग हैं। आज हम आपको Shilajit Benefits और Shilajit ke fayde हिंदी में बताते हैं।

Shilajit Benefits

शिलाजीत के फायदे ( Shilajit Benefits ) :

  1. शिलाजीत रक्त में शर्करा के स्तर को कण्ट्रोल करता हैं और शरीर से हानिकारक पदार्थो को बहार निकालता हैं। शिलाजीत के सेवन से Diabetes नियंत्रण में रहती हैं।
  2. Shilajit ke uses से यौन दुर्बलता, स्वपनदोष और नपुंसकता को दूर करता हैं और यौन शक्ति बढ़ती हैं। यह पुरुषो में सेक्स हार्मोन को बढ़ाता हैं शिलाजीत के सेवन से शुक्राणुवों की संख्या बढ़ती हैं।
  3. शिलाजीत के सेवन से स्मरण शक्ति बढ़ती हैं। Shilajit के सेवन से मानसिक थकावट, चिन्ता और तनाव दूर होता हैं।
  4. शिलाजीत दिल की सेहत के लिए अच्छा हैं साथ ही यह रक्त चाप को भी कण्ट्रोल में रखता हैं। यह शरीर में नयी कोशिकाओं को बना कर पुरानी कोशिकाओं को सही करता हैं। शिलाजीत के सेवन से बुढ़ापा दूर रहता है।
  5. Shilajit के सेवन से पाचन तंत्र सही बना रहता हैं। शिलाजीत के सेवन से अपच, पेट दर्द, गैस या कब्ज जैसी बीमारिया दूर रहती हैं जब पेट सही रहेगा तो शरीर भी स्वस्थ्य रहता हैं।
  6. शिलाजीत शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करता है। इसमें लगभग 85 फीसदी मिनरल्स पाए जाते हैं जो शरीर को स्वस्थ्य रखते हैं। शिलाजीत में प्रोटीन और विटामिन भी पाए जाते हैं शिलाजीत के सेवन से शरीर को ऊर्जा मिलती हैं।
  7. शिलाजीत के सेवन से इसमें मौजूद कैल्शियम हड्डियों को मजबूत करता हैं। इससे गठिया या जोड़ो के दर्द में राहत मिलती हैं साथ ही शरीर की सूजन कम होती हैं। शिलाजीत के सेवन से कफ, पित्त, वात विकार दूर होते हैं।
  8. शिलाजीत के सेवन से पैनक्रियाज या किडनी की समस्या सही होती हैं। शिलाजीत के सेवन से बार-बार पेशाब करने की समस्या से छुटकारा मिलता हैं। Shilajit ka upyog गर्भावस्था में नही करे शिलाजीत का उपयोग डॉक्टर की सलाह से ही करे।

शिलाजीत के नुकसान ( Shilajit ke Nuksan ) :

शिलाजीत की प्रकृति गर्म होती हैं इसलिए जिन लोगो में गर्मी पहले से ही ज्यादा हैं उनको शिलाजीत किसी अनुभवी की सलाह से ही उपयोग लेने चाहिए क्योंकि यह उन्हें नुकसान दे सकता हैं। शिलाजीत का सेवन करने वालो को खटाई, मिर्च, गर्म मसाले, शराब, मांस, अंडे से दूर रहना चाहिए। गर्भवती महिलावो को शिलाजीत का उपयोग नही करना चाहिए शिलाजीत के इस्तेमाल से किसी-किसी को एलर्जी भी हो सकती है। शिलाजीत का सेवन दूध और शहद के साथ सुबह सूर्योदय से पहले करना अच्छा रहता हैं इसके सेवन के बाद लगभग चार घंटे बाद ही भोजन करना चाहिए। शिलाजीत का सेवन कितना करना चाहिए इसकी सलाह अनुभवी डॉक्टर से ले। जिन लोगो के ज्यादा गठिया बाय हैं उनको Shilajit का सेवन नही करना चाहिए क्योंकि इससे खून में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने का खतरा हो जाता हैं।

अंडे खाने के फायदे ( Egg Khane ke Benefits )

Anda जिसे हम इंग्लिश में Egg कहते है। अंडे में काफी मात्रा में protein, vitamins और पोषक तत्व पाए जाते हैं। इस कारण अंडा सस्ता होने के साथ ही हमारे शरीर के लिए बहुत ही लाभदायक हैं। अंडा बाजार में बड़ी आसानी से मिल जाता है और यह लगभग पूरी दुनिया में खाया जाता है। Ande Khane से हमें स्फूर्ति और ऊर्जा मिलती है। इस कारण अंडे को सर्दियों में ज्यादा खाया जाता है और सबका खाने का तरीका भी अलग अलग है। कुछ लोग अंडे खाना पसंद नही करते है. तो आज हम आपको बतायेगे की Ande khane ke fayde और Egg Khane ke Benefits क्या-क्या है जिससे आप अंडे के गुणों को जानकर यह कहेगे की ‘सन्डे हो या मंडे रोज खाये अंडे’ |

Egg Khane ke Benefits

अंडे खाने के फायदे ( Egg Khane ke Benefits ) :

  1. आप Breakfast में 2 boil eggs खा सकते हैं और यह जल्दी से पच भी जाता हैं। anda काफी मात्रा में हमारे शरीर को energy प्रदान करता हैं क्योंकि 2 Ande में लगभग 165 से 170 calories होती हैं।
  2. नियमित रूप से 2 अंडे खाने से हमारी आँखों की रौशनी बढ़ती हैं, क्योंकि ande में मौजूद vitamin A हमारी आँखों के लिए फायदेमंद हैं।
  3. नियमित रूप से ande के सेवन करने से शरीर के weight को बढ़ाता हैं और आपकी शारीरिक शक्ति को बढ़ाता हैं। क्योंकि अंडे में काफी मात्रा में protein होते हैं, जो लोग अपना वजन नही बढ़ाना चाहते हैं। वो अंडे के सिर्फ सफ़ेद भाग को खाये, क्योंकि इसमें फैट नही होता हैं।
  4. छोटे बच्चो को daily 1 Egg देना उनके स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छा हैं। अंडे में मौजूद vitamin D हमारे शरीर की हड्डियों को मजबूत बनाती हैं।
  5. अंडे में काफी मात्रा में प्रोटीन पाए जाने के कारण यह हमारे बाल और नाखुनो की growth अच्छी करता हैं, क्योंकि हमारे बाल और नाख़ून प्रोटीन के बने होते हैं, साथी ही अंडा आपके बालो को सफ़ेद होने से बचाता हैं। अंडे में मौजूद कैल्शियम हमारे दांत और हड्डियों को मजबूत बनाता हैं।
  6. अंडा एक पोष्टिक खाद्य पदार्थ हैं, जो हमें तुरंत ऊर्जा देता हैं और इससे बनाने में समय और पैसा कम लगता हैं Anda सर्दियों में हमारे शरीर को ठण्ड से बचाता हैं।
  7. अंडे खाने से हमारे शरीर को एमिनो एसिड मिलता हैं. जो हमारे स्टेमिना को बढ़ाता हैं |
  8. अंडे में फॉलिक एसिड और विटामिन बी 12 पाया जाता हैं, जो कैंसर से बचाता हैं और हमारी memory power या याददास्त को बढ़ाता हैं हमारे दिमाग को तेज करता हैं |

अंडे खाने के नुकसान ( Ande khane ke nuksan ) :

  • Ande ko कच्चा नही खाना चाहिए और आधा पका हुवा अंडा भी इन्फ़ेक्सन होने के खतरे को बढ़ा देता है और नुकसान दे सकता हैं।
  • जो लोग अंडे ज्यादा खाते हैं. उन्हें अंडे का पिला भाग (योक या जर्दी) कम से कम खानी चाहिए, क्योंकि इसमें मौजूद कोलेस्ट्रॉल हार्ट को नुकसान देता हैं।
  • गर्भवती महिला को Ande Khane se पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए।
  • अंडे के अधिक सेवन से लकवा, नपुंसकता, पैरो में दर्द, मोटापा, कैंसर जैसी अनेक परेसानी हो सकती हैं।
  • गर्मियों में Ande ka sevan कम करना चाहिए क्योंकि अंडा गरम रहता हैं |

मोटा होने के लिए घरेलु उपाय ( Mota hone ke Upay )

मोटा होने के लिए घरेलु उपाय ( Mota hone ke Upay ) :

कुछ लोग बहुत पतले और कमजोर होते हैं। वे अपना वजन बढ़ाना चाहते हैं। Mota hona चाहते हैं कुछ लोग ऐसे भी है जो खूब खाते हैं फिर भी मोटा नही हो पाते, इसका कारण है ख़राब पाचन शक्ति का होना। यहाँ मोटे होने का मतलब है की शारीरिक दृस्टि से मजबूत और स्वस्थ्य होना। क्योंकि ज्यादा मोटापा भी अनेक बीमारियों को जन्म देता हैं थोड़ा मोटा होने से personality पर अच्छा प्रभाव पड़ता हैं। मोटा होने के लिए बाजार से कोई दवा या उत्पाद नही ख़रीदे इनका साइड-इफ़ेक्ट भी हो सकता हैं हम आपको आयुर्वेदिक तरीके से Mota hone ke Upay और Mota Hone ke Tarike without Medicine के बारे में बताते हैं।

मोटा होने के लिए घरेलु उपाय ( Mota hone ke Upay aur Vajan badhane ke Tarike ) :

  1. भोजन का सेवन नियमित और सही समय पर करे सुबह नास्ता जरूर करे दिन में तीन बार खाना खाये खाने को खूब चबाकर खाये।
  2. दिन में कम से कम 4 लीटर पानी रोज पिए, पानी के अधिक सेवन से शरीर के अनावश्यक पदार्थ बाहर निकलते हैं और भोजन का पाचन सही से होता हैं।
  3. सुबह और रात को एक गिलास दूध जरूर पिए आप साथ में 2 केले भी खा सकते हैं और बादाम दूध का सेवन ज्यादा फायदेमंद होता हैं।
  4. Mota hone ke liye नियमित रूप से योगा करना जरुरी हैं इससे शरीर मजबूत और स्वस्थ्य रहता हैं और पाचन तंत्र मजबूत होता हैं साथ ही शरीर एक्टिव रहता हैं।
  5. शरीर के लिए आराम बहुत जरुरी हैं तनाव से दूर रहे साथ ही अच्छी नींद बहुत जरुरी हैं। अच्छी नींद वजन बढ़ने में बहुत ज्यादा सहायक होती हैं।
  6. आप मांस, अंडे और मछली का सेवन करे इनमे प्रोटीन और कैलोरी की अधिक मात्रा होती हैं जो वजन बढ़ने में सहायक हैं।
  7. Mota hone ke liye आपको अधिक मात्रा में दूध, पनीर, आलू चिपस, पिज्जा, बर्गर और ताजा भोजन खाने से भी वजन बढ़ता हैं।
  8. ताजा फलो का और फलों के ज्यूस का नियमित सेवन करते रहे ज्यादा खाना एक साथ नही खाये, थोड़ा-थोड़ा करके कुछ अंतराल में खाते रहे।
  9. काजू, छुहारे, बादाम, किशमिश ड्राई फ्रूट्स का इस्तेमाल दूध के साथ करे कुछ दिनों में आप Mote ho jayege। dry fruits का सेवन ज्यादा भी नही करे पानी का अधिक सेवन करे और शरीर को आराम दें।

थायराइड रोग का उपचार ( Thyroid ke Lakshan aur Gharelu Upchar )

थायराइड रोग का उपचार ( Thyroid ke Lakshan aur Gharelu Upchar ) :

महिला और पुरुषो दोनों में आजकल थायराइड रोग (thyroid) बढ़ता ही जा रहा हैं। महिलाओ में thyroid rog ज्यादा होता हैं। थायराइड एक हमारे शरीर में ग्रंथि होती हैं, जो गले की बीच में आगे की ओर होती हैं। जो थायरॉक्सीन हार्मोन का निर्माण करती हैं और हमारे शरीर को स्वस्थ्य रखती है। जब Thyroid ग्रंथि ज्यादा सक्रीय या कम सक्रीय होती है, तो थायराइड रोग को जन्म देती है। आज हम Thyroid ke Lakshan और Thyroid ka Gharelu Upchar के बारे में बात करते हैं।

थायराइड मुख्यत दो प्रकार का होता हैं ( Thyroid disease ) Hypo Thyroid और Hyper Thyriid.
Hypo Thyroid तब होता हैं। जब थायराइड ग्रंथि बहुत कम सक्रीय हो जाती हैं इसमें शरीर का वजन बढ़ने लगता हैं, कब्ज रहती हैं, डिप्रेशन, त्वचा का शुष्क होना और अधिक ठण्ड महसूस होती हैं।
Hyper Thyriid तब होता हैं। जब थायराइड ग्रंथि अधिक सक्रीय हो जाती हैं इसमें अधिक भूख लगती हैं, नींद नही आना, वजन घटना, अधिक गर्मी लगना और कमजोरी महसूस होती हैं।

थायराइड के कारण (Thyroid ke karan Symptoms ) :

  • जब व्यक्ति तनाव में रहता है तो Thyroid ग्रंथि हार्मोन के स्त्राव को बढ़ा देती हैं।
  • यदि आपके परिवार में किसी को Thyroid हैं तो आपको थायराइड होने की सम्भावना ज्यादा होती हैं।
  • बिना बीमारी ही ज्यादा दवाइयों के सेवन करने से भी थायराइड होने की सम्भावना रहती हैं।
  • हमारे भोजन में आयोडीन की कमी या ज्यादा इस्तेमाल करने से भी थायराइड होने की सम्भावना रहती हैं।
  • गर्भावस्था के दौरान तनाव लेने से महिलावो में Thyroid होने की सम्भावना रहती हैं।

थायराइड के लक्षण ( Thyroid ke Lakshan symptoms) :

  • वजन का अचानक कम होना या वजन का अधिक बढ़ जाना।
  • आवाज का भारी होना।
  • बोलने पर साँस का फूलना या साँस लेने में परेशानी होना।
  • डिप्रेशन में होना या नींद नही आने की परेशानी होना।
  • अधिक ठण्ड महसूस या त्वचा का शुष्क होना।
  • अधिक गर्मी लगना और कमजोरी महसूस होना।
  • गले के निचे सूजन या गांठ या दर्द होना।

थायराइड से बचने के घरेलु उपचार (Thyroid ka gharelu upchar ) :

  • पानी के अधिक सेवन करे यह हमारे शरीर से अनावश्यक पदार्थो को बाहर निकलता हैं पानी का अधिक सेवन हमारे शरीर के लिए हर प्रकार से फायदेमंद होता हैं।और थायराइड होने का खतरा कम हो जाता हैं
  • हरी पत्तेदार सब्जियों का ज्यादा सेवन करने से Thyroid रोग में फायदा होता हैं।
  • मशरूम, तुलसी और एलोवीरा के सेवन या फिर हल्दी वाला दूध पीने से Thyroid रोग में फायदा होता हैं।
  • रोज सुबह खली पेट लौकी का ज्यूस पीने से Thyroid रोग में फायदा होता हैं।
  • काली मिर्च की चाय में थोड़ी सी सोंठ डालकर पीने से Thyroid रोग में फायदा होता हैं।
  • प्याज, लहसुन, पालक, धनिया, निम्बू, नारियल तेल, अखरोट और बादाम के सेवन से भी Thyroid रोग में फायदा होता हैं।
  • Thyroid rogi सिगरेट, शराब, पत्ता गोभी, फूल गोभी, सोयाबीन और जंक फ़ूड का सेवन बिलकुल भी नही करे।

करेला के फायदे और लाभ ( Karela ke fayde aur labh )

करेला के फायदे ( Karela ke fayde ) :

करेला खाना बहुत ही कम लोग पसंद करते हैं क्योंकि उन्हें पता ही नही हैं की करेला के फायदे और करेला के लाभ क्या हैं। करेला एक औषधि हैं इसलिए इसका सेवन करना हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत जरुरी हैं करेले को अंग्रेजी में Bitter Gourd बोलते हैं। करेला एक गुणकारी सब्जी हैं और इसकी बेल से साल में दो बार फसल होती हैं। करेले का फूल पीले रंग का होता हैं। कच्चा करेला हरे रंग का होता हैं और कच्चे करेले का उपयोग फायदेमंद होता हैं। करेला स्वाद में कड़वा होता हैं, इसीकारण लोग खाना पसंद नही करते हैं, परन्तु करेला के फायदे और गुणों के देखते हुए हमें इससे मुँह नही मोड़ना चाहिए। करेले को कई तरह से उपयोग किया जाता हैं जैसे सब्जी, जूस, अचार आदि. आज हम आपको Karela ka Juice benefits, Karela ke benefits और Karela ke fayde के बारे में बात करते हैं जिससे आपको करेला बहुत अच्छा लगने लगेगा।

करेले में 92.4 प्रतिशत पानी, 4.2 प्रतिशत कार्बोहाइट्रेड, प्रोटीन, कैल्शियम, फास्फोरस, लोहा, कैरोटीन, थायमिन, विटामिन C पाए जाते हैं। अब हम Karela ke fayde क्या क्या हैं जानते हैं –

Karela ke fayde

करेला के फायदे ( Karela ke fayde aur Karela ka juice benefits ) :

  1. करेला मधुमेह रोग में बहुत फायदा करता हैं। आप रोग सुबह एक चुटकी करेले को चूर्ण को शहद के साथ ले सकते हैं इससे आपकी शुगर कण्ट्रोल होगी Karele ke juice पीने से भी मधुमेह में लाभ होता है। करेला कोलेस्ट्रॉल लेवल कम करने के कारण यह ह्रदय रोगियों के लिए भी फायदेमंद होता हैं।
  2. करेले में एंटीऑक्सीडेंट होता हैं जो भोजन को पचाने में सहायक होता हैं और पाचन क्रिया को सही करता हैं। इसलिए करेले के सेवन करते रहने से पाचन क्रिया और उदर रोगों में फायदेमंद हैं।
  3. करेले के नियमित सेवन से मोटापा दूर रहता हैं क्योंकि यह पाचन क्रिया को सही कर वजन को नियंत्रित करता हैं। करेले के रस में थोड़ा सा निम्बू मिला कर पीने से मोटापा दूर होता हैं।
  4. करेले के नियमित सेवन से मूत्र खुल कर बहार आता हैं और पथरी में भी यह फायदेमंद होता हैं इसके साथ यह कब्ज की समस्या को भी दूर करता हैं।
  5. करेले की पत्तियों का लेप बनाकर जोड़ों पर लगा कर मालिश करने से जोड़ों के दर्द में राहत मिलती हैं Karela ka Juice गठिया रोग में फायदेमंद हैं।
  6. करेले की पत्तियों का लेप मुँह पर लगाने से यह मुहांसो और दाग-धब्बो को सही करता हैं करेले के नियमित सेवन से यह त्वचा रोगों में फायदा करता हैं। घमोरियों पर करेले का रस लगाने से शांत हो जाती हैं।
  7. करेले के रस का सिर पर लेप करने से सिर दर्द दूर हो जाता हैं।
  8. करेले में विटामिन और खनिज लवण अधिक मात्रा में होने से यह शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता हैं।
  9. करेले में फास्फोरस पाया जाता हैं. जिससे यह कफ की समस्या को दूर करता हैं दमा में बिना मसाले वाली करेले की सब्जी खाने से karela ke fayde होते हैं।
  10. करेले के रस में थोड़ा सा कला नमक डालकर सेवन करने से यह उलटी-दस्त व हैजा में फायदा करता हैं।
  11. करेले के नियमित सेवन से खून साफ होता है और हीमोग्लोबिन बढ़ता हैं साथ ही यह लिवर से सम्बंधित बिमारियों में भी फायदा करता हैं।
  12. यह धुंद पिलाने वाली मां के दूध को शुद्ध करता हैं, यदि आपके मुँह में चले हो जाये तो करेले के रस से कुल्ला करने पर फायदा होता हैं। यह पीलिया रोग में भी फायदेमंद हैं। इस तरह Karela ke fayde और Karela ka juice benefits बहुत ज्यादा हैं। करेले में अन्य सब्जियों और फलो से ज्यादा औषधिय गुण पाए जाते हैं इसलिए हमें नियमित रूप से करेले का सेवन करना चाहिए परन्तु यह ध्यान रहे ही करेले का नियमित रूप से थोड़ा सेवन ही लाभदायक हैं ज्यादा करने पर नुकसान हो सकता हैं।

जीर्ण ज्वर के उपाय ( Chronic Fever Ke Upay )

जीर्ण ज्वर के उपाय ( Chronic Fever Ke Upay ) :

जीर्ण ज्वर के उपाय ( Chronic Fever Ke Upay ) : Chronic Fever ka ilaj in hindi.

लक्षण : शरीर में हल्का दर्द, आँखों में जलन, पेशाब में पीलापन, पीठ में दर्द।

  • पलाश के फूलों का 1 से 2 ग्राम चूर्ण दूध-मिश्री के साथ लेने से गर्मी तथा जीर्णज्वर में लाभ होता है।
  • दूध में 6 रत्ती (750 मिलीग्राम) लेंडीपीपर का चूर्ण उबालकर पीने से या आधा से 2 ग्राम शीतोपलादि चूर्ण अथवा गुडुच (गिलोय) का आधा से 1 ग्राम सत्व (अर्क) या आँवले का 1 से 2 ग्राम चूर्ण लेने से जीर्ण ज्वर में लाभ होता है।
  • काला जीरा, चिरायता और कटुकी एक-एक चम्मच लेकर इन सबको रात्रि में भिगोकर सुबह 500 ग्राम पानी में तब तक उबालें जब तक पानी केवल दो चम्मच रह जाये। उस पानी को सुबह पीने से जीर्णज्वर में लाभ होता है।
  • दूध में पुनर्नवा (विषखपरा) की 1 से 2 ग्राम जड़ का सेवन करने से चौथिया ज्वर में लाभ होता है।
Ayurvedic Solution © 2016 Frontier Theme
Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.