Category: तुलसी के चमत्कारी गुण

तुलसी के फायदे ( Health Benefits Tulsi ke Fayde – Tulsi ke beej )

Health Benefits Tulsi ke Fayde or Tulsi ke beej ke fayde in Hindi :

भारत में प्राचीन काल से ही तुलसी के औषधीय गुणों ( Tulsi ke Gun ) को काफी महत्व दिया गया हैं, भारत में तुलसी (Basil ) को एक पवित्र पौधा मन जाता हैं, इसी कारण तुलसी का पौधा हर घर में पाया जाता हैं, तुलसी के पत्ते और तुलसी के बीज सभी का औषधीय महत्व हैं। आज हम आपको तुलसी के कुछ Health Benefits Tulsi ke Fayde or Tulsi ke beej ke fayde के बारे में बताते हैं।

तुलसी के बीज का फायदा (Tulsi ke beej ke fayde) :

  • शीघ्र पतन एवं वीर्य की कमी : तुलसी के बीज 5 ग्राम रोजाना रात को गर्म दूध के साथ लेने से समस्या दूर होती है
  • नपुंसकता : तुलसी के बीज 5 ग्राम रोजाना रात को गर्म दूध के साथ लेने से नपुंसकता दूर होती है और यौन-शक्ति में बढोतरि होती है।
  • मासिक धर्म में अनियमियता : जिस दिन मासिक आए उस दिन से जब तक मासिक रहे उस दिन तक तुलसी के बीज 5-5 ग्राम सुबह और शाम पानी या दूध के साथ लेने से मासिक की समस्या ठीक होती है और जिन महिलाओ को गर्भधारण में समस्या है वो भी ठीक होती है।
  • तुलसी के पत्ते गर्म तासीर के होते है पर सब्जा शीतल होता है . इसे फालूदा में इस्तेमाल किया जाता है . इसे भिगाने से यह जेली की तरह फुल जाता है . इसे हम दूध या लस्सी के साथ थोड़ी देशी गुलाब की पंखुड़ियां दाल कर ले तो गर्मी में बहुत ठंडक देता है .इसके अलावा यह पाचन सम्बन्धी गड़बड़ी को भी दूर करता है .यह पित्त घटाता है ये त्रीदोषनाशक , क्षुधावर्धक है।

तुलसी के गुण (Tulsi ke Fayde or Tulsi ke Gun) :

पाचन शक्ति :- तुलसी की पत्तियों (Tulsi ke Patte) को पीस कर २ चम्मच खुराक पीने से मनुष्य की पाचन शक्ति तीव्र होती हैं
सर्दी-जुकाम :- तुलसी दल के रस में अदरक का रस २ चम्मच मिलाकर चाटने से सर्दी – जुकाम दूर होता हैं
पीलिया :- तुलसी के पत्तियों का रस एक तोला मूली का रस चार तोला मिलाकर गुड के साथ पिलाने से पीलिया रोग दूर हो जाता हैं ।
स्वप्नदोष :- रात को सोते समय काली तुलसी के दस या बारह पत्ते जल के साथ लेने पर स्वप्नदोष रुक जाता हैं।
शीघ्रःपतन :- तुलसी के दो पत्ते और चार ग्राम बीज रोजाना सुबह शाम पान में रखकर खाने से शीघ्रःपतन में पुरूष को लाभ होता हैं।

            Tulsi ke beej ke fayde in HindiHealth Benefits Tulsi ke Fayde

तुलसी के फायदे (Health Benefits Tulsi ke Fayde) :

  • तुलसी रस से बुखार उतर जाता है। इसे पानी में मिलाकर हर दो-तीन घंटे में पीने से बुखार कम हो जाता है।
  • कई आयुर्वेदिक कफ सिरप में तुलसी का इस्तेमाल अनिवार्य है।यह टी.बी,ब्रोंकाइटिस और दमा जैसे रोंगो के लिए भी फायदेमंद है।
  • जुकाम में इसके सादे पत्ते खाने से भी फायदा होता है।
  • सांप या बिच्छु के काटने पर इसकी पत्तियों का रस,फूल और जडे विष नाशक का काम करती हैं।
  • तुलसी के तेल में विटामिन सी,कै5रोटीन,कैल्शियम और फोस्फोरस प्रचुर मात्रा में होते हैं।
  • साथ ही इसमें एंटीबैक्टेरियल,एंटीफंगल और एंटीवायरल गुण भी होते हैं।
  • यह मधुमेह के रोगियों के लिए भी फायदेमंद है।साथ ही यह पाचन क्रिया को भी मज़बूत (Tulsi ke Fayde) करती हैं।
  • तुलसी का तेल एंटी मलेरियल दवाई के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है। एंटीबॉडी होने की वजह से यह हमारी इम्यूनिटी भी बढा देती है।
  • तुलसी के प्रयोग से हम स्वास्थय और सुंदरता दोनों को ही ठीक रख सकते हैं।

yadi apko tulsi ke hare patte nhi mil rahe hai to ap tulsi ke beej ka use bhi kar sakte ho. Aj hamne apko Health Benefits Tulsi ke Fayde or Tulsi ke beej ke fayde ke bare me jankari di hain. Ham lagta hain ki apke ghar me bhi tulsi ka podha hoga, yadi nhi hai to aj hi holy basil tree lagaye. Ghar me tulsi ka podha ek vardan hai. Tulsi ka podha ek achhi jagah (holy) par lagana chahiye. Is trah apko pata chal gaya hoga ki Tulsi ke fayde aur Tulsi ke beej ke fayde or patte ke fayde bahut hain.

सावधानी :

फायदे जानने के बाद तुलसी के सेवन में अति कर देना नुकसानदायक साबित होगा। क्योंकि इसकी तासीर गर्म होती है इसलिए दिन भर में 10-12 पत्तों का ही सेवन करना चाहिए। खासतौर पर महिलाओं के लिए भले ही तुलसी एक वरदान की तरह है लेकिन फिर भी एक दिन में पांच तुलसी के पत्ते पर्याप्त हैं। हां, इसका सेवन छाछ या दही के साथ करने से इसका प्रभाव संतुलित हो जाता है। हालांकि यह आर्थराइटिस, एलर्जी, मैलिग्नोमा, मधुमेह, वायरल आदि रोगों में फायदा पहुंचाती है। लेकिन गर्भावस्था के दौरान इसके सेवन का ध्यान रखना जरूरी है। गर्भावस्था के दौरान अगर दर्द ज्यादा होता है तब तुलसी के काढे से फायदा पहुंच सकता है। इसमे तुलसी के पत्तो को रात भर पानी मे भिगो दें और सुबह उसे क्रश करके चीनी के साथ खाएं ब्रेस्ट- फीडिंग के दौरान भी तुलसी का काढा फायदेमंद होता है। इसके लिए बीस ग्राम तुलसी का रस और मकई के पत्तों रस मिलाएं, इसमें दस ग्राम अश्वगंधा रस और दस ग्राम शहद मिला कर खाएं। तुलसी बच्चेदानी को स्वास्थ रखने के लिए भी सहायक है। हां, एक बात ध्यान रहे कि आपके स्वास्थ पर तुलसी के अच्छे और बुरे दोनों प्रभाव (Health Benefits Tulsi ke Fayde) पड सकते हैं इसलिए महिलाओं के लिए हो या बच्चों के लिए, बिना आयुर्वेदाचार्य से परामर्श लिए इसका इस्तेमाल न करे।

ध्यान रहे तुलसी पूजनीय हें , इसका अपमान / अनादर न करें !

Ayurvedic Solution © 2016 Frontier Theme
Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.